जागरण संवाददाता, जालंधर। पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने सरकार सहित विपक्षी दलों को निशाने पर लिया है। उन्होंने युवा मतदाताओं से अपील की है कि मुफ्त की घोषणाएं करने वाले नेताओं से सवाल पूछें कि इन्हें पूरा करने के लिए वह फंड कहां से लाएंगे। शनिवार को यहां केएमवी में आयोजित स्टूडेंट्स इंट्रेक्शन 'पंजाब का भविष्य' कार्यक्रम में विद्यार्थियों से रू-ब-रू होने आए थे। उन्होंने कहा कि 26 लाख नौकरियां, महिलाओं को एक हजार रुपये, मुफ्त बिजली आदि देने के बड़े-बड़े वादे किए जा रहे हैं। विद्यार्थियों को ऐसे नेताओं से सवाल कर पूछना चाहिए कि इसके लिए फंड कहां से आएगा? सिद्धू ने कहा कि उन्होंने केवल सच ही बोला है और सच बोलने में कोई डर नहीं है। जब कभी ऐसा लगता है कि सियासत बोझ बन गई है तो इस्तीफा दे देता हूं। परंतु वह फिर पकड़ कर वापस ले आते हैं।

परगट से कह दिया था, राजनीति दलदल है, मुझसे नहीं होगी

परगट सिंह मेरा यार है और मुझे पार्टी में वापस लेकर आया है। मैंने उससे कह दिया था कि यह राजनीति दलदल है, मुझसे नहीं होगी। मगर परगट नहीं माना और ले आया, लेकिन साथ ही यह भी कह दिया कि अगर आ गया तो पीछे नहीं हटूंगा। फिर सभी सीधे कर देने हैं क्योंकि कुछ गलत होने नहीं दूंगा। मैं आज भी अपनी सैलरी से गुजारा करता हूं, पंजाब के लिए जिया हूं और पंजाब के लिए ही मरूंगा। सच बोलने से पीछे नहीं हटूंगा। सिद्धू ने कहा, मैंने कभी भी ऐसे वादे नहीं किए। क्योंकि मैं जानता हूं, नौकरियां देने के लिए बजट चाहिए। मैं हवाई बाते नहीं करता, क्योंकि 26 लाख नौकरियों का दावा करने वालों से एक लाख पद तो भरे नहीं गए।

26 लाख नौकरियां देने के लिए हर पद पर 30 हजार रुपये मासिक वेतन के हिसाब से बजट एलोकेशन में 93 हजार करोड़ रुपये का वार्षिक बजट बनता है, वह कहां से आएगा? उन्होंने सवाल किया, मुफ्त बिजली कैसे मिलेगी, 3600 करोड़ रुपये का बजट कहां से आएगा? हमें मुफ्त नहीं 24 घंटे बिजली चाहिए, वह भी तीन रुपये प्रति यूनिट में। सिद्धू ने विद्यार्थियों से कहा कि पंजाब में चाहे सिद्धू आए या केजरीवाल या चाहे कोई और आए। जो भी आए उससे सवाल करें कि पैसा कहां से आएगा? कहां से नौकरियां निकालेंगे, नोट छापने की कहीं मशीन तो नहीं लगाई, बजट कहां है?

केजरीवाल से सवाल, पंजाब की महिलाएं क्या भिखारी हैं

नवजोत सिंह सिद्धू ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंदर केजरीवाल का नाम लिए बिना सवाल किया कि महिलाओं को हर महीने 1000 हजार रुपये दिए जाएंगे, अरे क्या पंजाब की महिलाएं भिखारी हैं? हमें ऐसी भीख नहीं चाहिए। उन्हें ऐसी शिक्षा चाहिए, जिससे वह दूसरों को भी शिक्षित व योग्य बनाकर हजारों रुपये कमाने के योग्य बना सकें।

Edited By: Pankaj Dwivedi