जागरण संवाददाता, जालंधर

ऐतिहासिक अस्थान गुरुद्वारा छेवीं पातशाही बस्ती शेख की पहली मंजिल पर मीरी पीरी दरबार हाल का निर्माण किया गया है। वातानुकूलित होने के साथ-साथ इस हाल में आधुनिक लाइटें व साउंड सिस्टम सहित तमाम तरह की सुविधाएं दी गई हैं। इसके उद्घाटन समारोह में प्रसिद्ध रागी जत्थे के सदस्यों ने शबद गायन के साथ संगत को निहाल किया। समारोह का आगाज हरीरास साहिब के पाठ के भोग डालने के साथ किया गया।

इसके उपरांत हजूरी रागी भाई दलेर सिंह के जत्थे ने शबद गायन के साथ श्री गुरु ग्रंथ साहिब की इलाही वाणी का उच्चारण किया। इसी तरह भाई हरजोत सिंह जख्मी ने सावन महीने के राग मल्हार की वाणी का बखान किया। प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष बेअंत सिंह सरहदी ने श्री गुरु हरगोबिद साहिब के जीवन और मीरी पीरी परंपरा के बारे में बताया। कार्यकारी अध्यक्ष गुरुकृपाल सिंह ने प्रबंधक कमेटी के धार्मिक व सामाजिक कार्यो के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जरूरतमंद लोगों को राशन व दवाइयां मुहैया करवाने के लिए नियमित रूप से मुहिम चलाई गई थी। प्रबंधक कमेटी की तरफ से सभी रागी जत्थे के सदस्यों को सिरोपा देकर सम्मानित किया गया। अरदास के उपरांत गुरु का अटूट लंगर वितरित हुआ। इस अवसर पर समाज सेवक जसविदर सिंह मक्कड़, कोर कमेटी चेयरमैन हरजीत सिंह एडवोकेट, वरिष्ठ उपाध्यक्ष कुलवंतवीर सिंह कालड़ा, दविदर सिंह रहेजा, अमरीक सिंह, महासचिव गुरमीत सिंह, सचिव इंद्रपाल सिंह, जगजीत सिंह, परमजीत सिंह नैना, चरणजीत सिंह सराफ, इंद्रपाल सिंह अरोड़ा, गुरजीत सिंह पोपली, गुरदीप सिंह बवेजा, बिशन सिंह, डा. सतनाम सिंह, जगतार सिंह, गुरदीप सिंह, गुरबचन सिंह व त्रिलोक सिंह ट्रांसपोर्ट आदि मौजूद थे।