जालंधर, [अंकित शर्मा]। राज्य भर के दस मेरिटोरियस स्कूलों में दाखिले के लिए एंट्रेंस टेस्ट की रजिस्ट्रेशन की तिथि को पिछली बार की तरह पांचवीं बार आगे बढ़ा दिया गया है। अब विद्यार्थी टेस्ट के लिए रजिस्ट्रेशन 30 जून तक आवेदन कर सकते हैं।

यहां बता दें कि 2020 में भी पांच बार रजिस्ट्रेशन तिथि को बढ़ाया गया था, तब 19 हजार विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाई थी पर परीक्षा नहीं हो पाई थी। ऐसे में 12वीं कक्षा के साथ ही स्कूलों को खोल दिया गया था। दसवीं के मेधावी विद्यार्थियों को एंट्रेस टेस्ट पास करने पर मैरिट के आधार पर ही दाखिला मिलता है। मगर इस बार दसवीं की परीक्षाएं न होने से मूल्यांकन के आधार पर ही नतीजे जारी किए जा रहे हैं, जिससे अब एंट्रेंस टेस्ट के जरिये ही बनने वाली मैरिट के आधार पर दाखिले देना व सीटें भरने का आप्शन बाकी रहती है। इससे पहले अंतिम तिथि 30 अप्रैल थी। सूबे के स्कूलों में 4600 सीटें हैं।

सोसायटी आफ प्रमोशन आफ क्वालिटी एजुकेशन फार पुअर एंड मैरिटोरियस स्टूडेंट्स आफ पंजाब की ओर से ही मैरिटोरियस स्कूलों को संचालन किया जा रहा है। इसके तहत ही जालंधर कपूरथला रोड, अमृतसर, बठिंडा, लुधियाना, मोहाली, पटियाला, तलवाड़ा, फिरोजपुर, गुरदासपुर स्कूलों में कामर्स, मेडिकल, नान मेडिकल, ह्यूमेनिटिज यानी की आर्ट्स ग्रुप की 4600 सीटें हैं। यहां बता दें कि 2021-22 के तहत मेरिटोरियस स्कूलों में दाखिले के लिए अब तक करीब 17 हजार से अधिक विद्यार्थियों को तरफ से रजिस्ट्रेशन करवाई जा चुकी हैं। ऐसे में प्री बोर्ड के आधार पर दसवीं का नतीजा घोषित होने पर 11वीं के लिए स्कूलों की दाखिला प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

स्कूलों में दाखिले के लिए 2014 से शुरू किया गया एंट्रेंस एग्जाम

सूबे में 2014 में मैरिटोरियस स्कूलों को शुरू किया गया था। जिनमें 2016 के सेशन से एंट्रेंस एग्जाम की शुरूआत की गई थी। उसके बाद अगले सेशन से टेस्ट को पूरी तरह से निशुल्क कर दिया गया था, ताकि ज्यादा से ज्यादा मेधावी विद्यार्थी इस टेस्ट के भागीदार बन सकें।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप