जासं, जालंधर : एलपीयू फ्रेंच अध्ययन और गतिविधियों के लिए कैंपस में ई-स्पेस फ्रांस सेंटर खोलने वाली पहली यूनिवर्सिटी बन गई है। यह सेंटर मुख्यता फ्रांसीसी गतिविधियों के लिए देश में बना प्रमुख सेंटर है जोकि सांस्कृतिक, भाषा, शिक्षा या कूटनीति के क्षेत्र में काम करेगा। भारतीय और फ्रांसीसी यूनिवर्सिटियों के मध्य लगभग 300 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

एलपीयू कैंपस में ई-स्पेस फ्रांस सेंटर खोलने से दोनों देशों के बीच इस तरह का सहयोग और मजबूत होगा। वास्तव में एलपीयू के पास पहले से ही आइएमटी लिली, ईपीएफ, आइएसईपी, ईएसआइजीईएलईसी, नैनटेस और अन्य फ्रांसीसी यूनिवर्सिटियों और संस्थानों के साथ मजबूत संबंध हैं। इस सेंटर के उदघाटन के लिए काउंसलर फॉर को-ऑपरेशन एंड कल्चरल अफेयर एंड कंट्री व इंस्टीटयूट के निदेशक ब्रट्रेंड डी हार्टिग द्वारा पांच सदस्यीय फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया गया था। फ्रेंच भाषा को पहले से ही एलपीयू पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है और इसे इलेक्टिव सब्जेक्ट के रूप में पेश किया गया है। यह एलपीयू के विद्यार्थियों के बीच सबसे लोकप्रिय विदेशी भाषा है।

एलपीयू के चांसलर अशोक मित्तल ने कहा कि कैंपस में फ्रेंच सेंटर स्थापित हो गया है। हमारे कई विद्यार्थी फ्रांस में स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम पर गए हैं और फ्रांसीसी शिक्षा और संस्कृति की गहन प्रशंसा और समझ के साथ वापस आए हैं। डॉ. डी हर्टिग ने कहा कि हमें विश्वास है कि हम दोनों सहयोगी भविष्य में एक बहुत बड़ा मील पत्थर स्थापित कर सकेंगे। इससे पहले एलपीयू के डिवीजन ऑफ इंटरनेशनल अफेयर के एडिशनल डायरेक्टर अमन मित्तल ने कहा कि बड़े ही कम समय में केंद्र स्थापित करना एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!