जालंधर, जेएनएन। कोरोना ने शहर के पाश इलाकों में तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए है। कोरोना से बुधवार को जालंधर के एक 64 वर्षीय व्यक्ति की लुधियाना डीएमसीएच में मौत हो गई। कोरोना से जालंधर में अब तक नौ लोगों की मौत हो चुकी है। एक जून को सांस लेने में शिकायत होने पर मरीज को डीएमसीएच में भर्ती करवाया गया था। मरीज को डायबिटीज की भी शिकायत थी। डीएमसीएच के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. अश्विनी चौधरी व सीएमओ डॉ. राजेश बग्गा ने इसकी पुष्टि की है। शव लेने के लिए परिवार के सदस्य वाहन लेकर लुधियाना रवाना हो गए है। 

इसके अलावा डिफेंस कॉलोनी में एक ही परिवार के सात सदस्यों व उनके तीन मुलाजिमों सहित कुल 12 लोगों को कोरोना होने की पुष्टि हुई है। इनमें दो हिमाचल प्रदेश से संबंधित हैं। जिले में मरीजों की संख्या 265 तथा मरने वालों की तादाद आठ तक पहुंच गई है।

पॉश इलाके लाजपत नगर से शुरू हुई कोरोना का चेन मजबूत होती जा रही है। लाजपत नगर से न्यू जवाहर नगर और अब डिफेंस कॉलोनी में कोरोना के मरीजों की संख्या का ग्राफ तेजी से चढऩे लगा है। नकोदर रोड पर स्थित लवली सेनेटरी स्टोर के मालिक के पॉजिटिव आने के बाद मंगलवार को उनके परिवार के सात सदस्यों तथा तीन स्टाफ के सदस्यों को कोरोना की पुष्टि हुई। इनमें दो हिमाचल के रहने वाले हैं। इनमें 39 साल का व्यक्ति गांव खांदेरा हमीरपुर व 35 साल का व्यक्ति गांव घरथेड़ू तहसील ढलियारा जिला कांगड़ा का रहने वाला है। इनके अलावा उक्त दुकान में ही काम करने वाला 24 साल युवक भार्गव कैंप में रहने वाला है।

डिफेंस कॉलोनी में परिवार को जो सात लोग पॉजिटिव पाए गए हैं उनमें पहले पॉजिटिव पाए गए कारोबारी की 48 साल की पत्नी, 43 साल की भाभी, 27 साल की बेटी, 24 साल का भतीजा, 45 साल का भाई तथा 73 साल की बुजुर्ग व 20 साल का युवक शामिल है। इनके अलावा दो और मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें 27 साल युवक कुवैत से आया था और उसे करतारपुर क्वाइनटाइन सेंटर में रखा गया था। इसी तरह भार्गव कैंप में सर्वे के दौरान लिए गए सैंपलों में से 21 साल की गर्भवती को कोरोना होने की पुष्टि हुई है। दोनों मरीजों को सिविल अस्पताल में भर्ती किया गया है।

अमृतसर की प्राइवेट लैब में करवाया था टेस्ट

सोमवार को सेहत विभाग की टीम ने उक्त सेनेटरी स्टोर के मालिक के परिजनों को सरकारी अस्पताल में सैंपल देने के लिए संपर्क किया तो उन्होंने साफ इंकार कर दिया और निजी स्तर पर सैंपल देने का फैसला किया था। डा. संजीव शर्मा की सलाह के बाद अमृतसर की निजी लैब में स्टोर में काम करने वाले स्टाफ समेत 14 लोगों के सैंपल जांच को भेजे गए। उनमें से दस को कोरोना होने की पुष्टि हुई। मरीजों की रिपोर्ट सोमवार को देर रात सेहत विभाग और डा. संजीव शर्मा के पास पहुंच गई थी। रात भर मरीज तनाव के माहौल में रहे। मंगलवार को आइएमए पंजाब की ओर से बिल्ली चाहरमी में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में उन्हें शिफ्ट किया गया जबकि स्टाफ के सदस्यों को सिविल अस्पताल दाखिल किया गया। सेहत विभाग के नोडल अफसर डा. टीपी सिंह ने इसकी पुष्टि की है।

 

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!