जालंधर, जेएनएन। लाहौर के भगत सिंह मेमोरियल फाउंडेशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शहीद-ए-आजम भगत सिंह को भारत रत्न देने की मांग की है। संगठन का कहना है कि 28 सिंतबर को शहीद भगत सिंह की 112वीं जयंती पर उन्हें यह पुरस्कार दिया जाए। बुधवार को फाउंडेशन के चेयरमैन एड. इम्तियाज राशिद कुरैशी ने पाकिस्तान में भारत के डिप्टी हाई कमिश्नर गौरव आहलुवालिया के माध्यम से प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी को इस संबंध में पत्र लिखा है।

कुरैशी का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी शहीदों के प्रति अपार आस्था रखते हैं, इसलिए वह चाहते हैं कि शहीद भगत सिंह की जन्मशति के अवसर पर भारत रत्न देने की घोषणा की जाए। उनका कहना है कि अगर शहीद भगत सिंह अगर भारत के हीरो हैं तो वह पाकिस्तान के बेटे हैं। बता दें कि फाउंडेशन 28 सितंबर को लाहौर के डेमो‍क्रेटिक लॉन में शहीद भगत सिंह का 112वां जन्मदिवस समाराेह करवाएगा। इसकी अध्यक्षता कुरैशी खुद करेंगे।

शहीद भगत सिंह को निर्दोष साबित करने में जुटे हैं एड. कुरैशी

एडवोकेट कुरैशी लाहौर हाईकोर्ट में एक केस लड़ रहे हैं, जिसमें वह पुलिस अफसर जेपी साउंडरस की हत्या के मामले में शहीद भगत सिंह काे निर्दोष साबित करने में जुटे हैं। उनका दावा है कि 17 दिसंबर, 1928 को हत्या के इस मामले में अनारकली पुलिस थाने में दर्ज एफआइआर में भगत सिंह का नाम शामिल नहीं था। इसके अलावा, उन्होंने लाहौर में एक चौक का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर रखने की याचिका भी दायर की हुई है।
 

शहीद-ए-आजम के लिए निशान-ए-पाकिस्तान की मांग करेंगे

कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान की अवाम के लिए भी भगत सिंह एक होरो हैं और वह प्रयास कर रहे हैं कि यहां के स्कूल और कॉलेजों में शहीद भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव की जीवनी के बारे में पढ़ाया जाए। वह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से भी शहीद भगत सिंह को निशान-ए-पकिस्तान अवार्ड देने की अपील करेंगे।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Edited By: Pankaj Dwivedi

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!