जागरण संवाददाता, रूपनगर। अपने बयानों को लेकर चर्चाओं में रहने वाली फिल्म अभिनेत्री पद्मश्री कंगना रनोट के काफिले को किसानों ने रूपनगर-कीरतपुर साहिब मार्ग पर बूंगा साहिब के निकट रोक लिया। किसान कंगना की गाड़ियों के काफिले के आगे नारेबाजी करते रहे।

किसानों का कहना था कि जब तक कंगना किसानों व पंजाबियों पर दिए गए बयानों को लेकर माफी नहीं मांगती वह उन्हें जाने नहीं देंगे। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल भी पहुंच गया, लेकिन किसानों की बढ़ती संख्या के कारण यह नाकाफी साबित हुई। बाद में, मौके को भांपकर कंगना ने किसानों से माफी मांगी। इसके बाद किसानों ने उन्हें जाने दिया।

कार में बैठी कंगना। जागरण

इससे पहले पुलिस के समझाने के बाद भी किसान खासतौर पर महिलाएं वहां से जाने को तैयार नहीं थी। वह महिलाओं से माफी मांगने की जिद कर रहे थे। वह कह रहे थे कि कंगना हमारी महिलाओं से माफी मांगे। फिर यहां से उन्हें जाने दिया जाएगा। किसानों के प्रदर्शन के कारण चंडीगढ़-उना हाईवे पर लंबा जाम लग गया।  ट्रैफिक जाम के बाद नंगल वाया ऊना हिमाचल में दाखिल होने वाले और कीरतपुर साहब से वाया गड़ा मोड़ा हिमाचल में दाखिल होने वाले राहगीर ट्रैफिक जाम में फंस गए। मौके पर डीएसपी कुलदीप सिंह विर्क भी मौजूद रहे। कंगना की माफी के बाद माहौल शांत हुआ। 

कंगना रनोट के काफिले को घेरे किसान। जागरण

माफी मांगने के बाद कंगना जब जाने लगी तो उन्होंने कार से उतरकर लोगों का अभिवादन किया। इस दौरान किसान उनके साथ फोटो खिंचाने के लिए आतुर दिखे। हर कोई सेल्फी लेने लगा।

पहले भी रही है विवाद में

बता दें, किसान आंदोलन को लेकर कंगना अपने बयानों से हमेशा विवादों में रही हैं। मामले में कंगना के खिलाफ कई शिकायतें भी दर्ज हैं। किसान आंदोलन की शुरुआत में कंगना ने ट्विटर पर एक पंजाबी वृद्ध महिला की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा था कि ऐसे लोग 50-50 रुपये लेकर आंदोलन में पहुंच जाते हैं। इसके बाद कंगना किसानों के निशाने पर आ गई थी। कंगना की इस टिप्पणी को लेकर महिला भी भड़क गई थी और कंगना के खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी थी। विवादित बयानों व टिप्पणियों के कारण कंगना का ट्विटर अकाउंट भी सस्पेंड हो गया था।

अब जब पीएम नरेन्द्र मोदी ने कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की थी तब भी कंगना ने इस पर नाराजगी जताई थी। कंगना ने यहां तक कह दिया था कि अगर संसद में चुनी गई सरकार के बजाय लोगों ने सड़कों पर कानून बनाना शुरू कर दिया तो यह एक जिहादी राष्ट्र बन जाएगा। उन सभी को बधाई, जो ऐसा चाहते थे। कंगना के इस बयान के बाद एक बार फिर वह किसानों के निशाने पर आ गई थी। इस मामले में भी उनके खिलाफ कई पुलिस थानों में शिकायत दर्ज की गई। कई संगठनों ने उनसे पद्मश्री वापस लेने तक की मांग की गई।  

Edited By: Kamlesh Bhatt