जालंधर [सुक्रांत]। शहर में बिना मास्क निकलने वाले अब सावधान हो जाएं, पुलिस से पिछले 24 घंटों में 44 ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है जो बिना मास्क के बाहर घूम रहे थे। मास्क पहने बिना घर से न निकलने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिस कितनी सख्ती दिखा रही है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सोमवार को पुलिस ने तीन महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज कर उनको गिरफ्तार भी कर लिया। यह तीनों महिलाएं मॉडल टाउन में पैदल ही निकल रही थीं लेकिन मुंह पर मास्क नहीं था।

पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने कहा कि अब मास्क पहनना उतना ही अनिवार्य है जितना यातायात के नियमों को मानना और न मानने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सभी के खिलाफ धारा 188 का मामला दर्ज किया गया है जिनमें उनको एक माह की सजा के साथ साथ जुर्माना भी लग सकता है।

वाहन जब्त करने में पुलिस ने दिखाई तेजी, 416 वाहन जब्त

कोरोना से लोगों को बचाने के लिए जुुटी कमिश्नरेट पुलिस ने लोगों के खिलाफ सख्ती बढ़ाने के लिए उनके वाहनों को जब्त करने में भी तेजी दिखाई है। बीते सात दिनों में पुलिस ने शहर में 416 वाहन जब्त कर लिए और वाहन चालकों के खिलाफ मामले दर्ज कर उनके चालान भी काटे गए। डीसीपी ट्रैफिक नरेश डोगरा ने बताया कि लोगों को सुरक्षित रहने के लिए घर में ही रहना चाहिए। अपने वाहन लेकर सड़कों पर निकलने वाले लोग न सिर्फ अपनी बल्कि दूसरों की जिंदगी को भी खतरे में डाल रहे हैं तो ऐसे में सिर्फ चालान काटना ही सही नहीं बल्कि उनके वाहन भी जब्त किए जाने चाहिए थे ताकि दूसरों को भी सबक मिल सके। उन्होंने बताया कि आगे से भी कर्फ्यू के दौरान जो भी वाहन सवार बिना पास या जरूरत के सड़कों पर दिखा तो उसका हर हाल में चालान कटेगा।

लापरवाही : दयोल नगर में कोरोना वायरस को हटाने के लिए करवाए जा रहे धार्मिक आयोजन

कुछ लोग अब भी अंधविश्वास में घिर कर कोरोना वायरस को बढ़ाने में मददगार बन रहे हैं। दयोल नगर में ऐसी ही लापरवाही देखने को मिली, जब एक घर में 21 दिनों के लिए पाठ रखवा कर लोगों को इकट्ठा कर लिया गया। मौके पर लंगर बनाने वाली महिलाओं को भी बुलाया गया। मोहल्ले के लोगों ने जब यह देखा तो किसी अनहोनी से बचने के लिए पुलिस को फोन कर दिया। इसकी भनक किसी तरह धार्मिक आयोजन करने वालों को लग गई और उन्होंने तुरंत सबको वहां से गायब कर दिया। थाना भार्गव कैंप की पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन उनको धार्मिक आयोजन तो मिला लेकिन घर में रहने वाले सात लोग ही शामिल हुए दिखे। इलाका निवासियों ने बताया कि बीते दो दिन से पाठ हो रहा था लेकिन कोई उनकी सुनता नहीं था। पुलिस ने बाद में धार्मिक आयोजन रखने वालों को चेतावनी दी कि अगर भीड़ एकत्र की कार्रवाई की जाएगी। 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!