जागरण संवाददाता, जालंधर : बीते 21 सितंबर को जालंधर के पुलिस कमिश्नर डा. सुखचैन सिंह गिल के तबादले के बाद 1997 बैच के आइपीएस नौनिहाल सिंह औलख ने उनकी जगह पुलिस कमिश्नर का चार्ज संभाल लिया है। इससे पहले नौनिहाल सिंह लुधियाना के पुलिस कमिश्नर थे। वहीं डा. सुखचैन सिंह गिल को अमृतसर का पुलिस कमिश्नर बनाया गया है। पुलिस कमिश्नर नौनिहाल सिंह को मंगलवार देर शाम पुलिस लाइन में गार्ड आफ आनर दिया गया।

तेजतर्रार अफसर माने जाते हैं नौनिहाल सिंह

आईपीएस नौनिहाल सिंह की पहचान एक तेजतर्रार पुलिस अधिकारी के तौर पर की जाती है। वह इससे पहले भी साल 2006 से 2007 के बीच में जालंधर में एसएसपी के पद पर तैनात थे। इस दौरान शहर में नशे और लूटपाट की घटनाओं पर खासी लगाम दिखाई दी थी। आईपीएस नौनिहाल सिंह अपराध और भ्रष्टाचार को लेकर अपने जीरो टालरेंस नीति के लिए जाने जाते हैं।

जालंधर के एसएसपी रह चुके हैं

1997 बैच के आइपीएस नौनिहाल सिंह की एसएसपी के तौर पर पहली तैनाती 2005 में खन्ना में हुई थी। वह मोहाली, जालंधर, बठिडा, संगरूर और चंडीगढ़ के एसएसपी भी रह चुके हैं। बतौर आइजी पटियाला, अमृतसर, चंडीगढ़, जालंधर के अलावा आइजी ला एंड आर्डर, आइजी बार्डर रेंज भी रह चुके हैैं। क्या होगी चुनौतियां

जालंधर के नवनियुक्त पुलिस कमिश्नर नौनिहाल सिंह के सामने शहर में बढ़ रही चोरी, छीना झपटी जैसी वारदातों पर काबू पाना बड़ी चुनौती होगी। इसके साथ ही डिप्टी हत्याकांड, पीवीसी व्यापारी गुरमीत सिंह टिंकू हत्याकांड में फरार चल रहे आरोपितों की गिरफ्तारी, गढ़ा रोड पर हुए मणप्पुरम लूटकांड के आरोपितों की गिरफ्तारी और कैंट स्टेशन के बाहर पंजाब पुलिस के एएसआइ के बेटे की हत्या के मामले का खुलासा भी उनकेलिए बड़ी चुनौती साबित होगा।

Edited By: Jagran