जालंधर, जेएनएन। पंजाब हेल्थ सिस्टम कार्पोरेशन (पीएचएससी) की टीम ने राज्य के सबसे बड़े सिविल अस्पताल में श्री गुरु नानक देव जी के 550 प्रकाश पर्व पर होने वाले समारोह के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। टीम के साथ पीएचएससी के मैनेजिंग डायरेक्टर मनवेश सिंह सिद्धू भी बुधवार को पहुंचे थे। इस दौरान टीम ने सरकारी अस्पताल में हर जगह खामियां पाईं। दौरा करने के बाद मनवेश सिद्ध ने बताया कि राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में सेहत सेवाओं को हाईटैक बनाया जाएगा। मरीजों की पीजीआइ चंडीगढ़ की तर्ज पर रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन की जाएगी और उन्हें एक नंबर दिया जाएगा।

इलाज के लिए कार्ड भी बनाया जाएगा, जिससे मरीज कभी भी अस्पताल में कार्ड की एंट्री करवाकर सेवाओं का लाभ ले सकते हैं। इससे विभाग के पास हर प्रकार की बीमारी का एक डेटाबेस तैयार हो जाएगा। उन्होंने बताया कि श्री गुरु नानक देव जी 550 वें प्रकाश पर्व पर होने वाले समारोह के लिए जालंधर के सरकारी अस्पताल में 50 बेड की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा सुल्तानपुर व कपूरथला में पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने अस्पताल के इमरजेंसी, रजिस्ट्रेशन काउंटर, आयुष्मान भारत काउंटर, ओपीडी कांप्लेक्स, सर्जरीकल वार्ड, बर्न वार्ड, आइसीयू का दौरा किया। इस दौरान टीम को हर जगह खामियां मिलीं। मौके पर उन्होंने इसे दुरुस्त करवाने की हिदायतें दीं। जांच करने पहुंची टीम ने पूरी आइसीयू में जूते डाल कर पहुंच कर नियमों की जम कर धज्जियां उड़ाई। इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ. गुरिंदर कौर चावला, एमएस डॉ. मनदीप कौर, डॉ. चन्नजीव सिंह, डॉ. रमन शर्मा, डॉ. कश्मीरी लाल, डॉ. गुरविंदर कौर, एक्सईएन सुखचैन सिंह के अलावा स्टाफ के अन्य सदस्य मौजूद थे।

यह मिली खामियां :

-सभी लिफ्टें खराब मिलीं।

-इमरजेंसी वार्ड में अव्यवस्था का आलम।

-आयुष्मान भारत सेहत बीमा योजना का काम करने की धीमी स्पीड।

-इमारत के रखरखाव में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही।

-बरसात में टपकती इमारत की छत्तें।

-ड्रेनेज व सीवरेज सिस्टम ठीक न होने से इमारत में सीलन।

-पब्लिक पार्किंग बन चुका अस्पताल।

-उपकरण खराब।

-वार्डों के शौचालयों की दयनीय हालत, बदबू का आलम।

-अधर में लटका बर्न वार्ड

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!