संवाद सूत्र, शाहकोट : डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (पंजाब) जिला जालंधर का डेलिगेट इजलास मलसियां में प्रिसिपल मनजीत सिंह मलसियां, हरमेश राही, सुखपाल सिंह राईवाल, जीवन सिंह और फ्रंट के राज्य जत्थे बंधक कमेटी के कन्वीनर दिग्विजय पाल (मोगा) की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। राज्य अध्यापक नेता दिग्विजय पाल ने कहा कि सरकार शिक्षा सुधार के नाम पर शिक्षा का व्यापारीकरण कर रही है। सरकार की ओर से लाई जा रही नई रसियन एलिवेशन नीति का विरोध करते हुए उन्होंने इसको अध्यापक और विद्यार्थी विरोधी बताया। उन्होंने कहा कि विभाग के उच्च अधिकारियों की ओर से अध्यापकों के ऊपर चलाए जा रहे दमनकारी हथकंडे को विशाल अध्यापक लहर से रोका जा सकता है। कंप्यूटर टीचर यूनियन के नेता कुलविदर सिंह, राजन सब्बरवाल, रविदर सिंह और बलजीत सिंह, पंजाब खेत मजदूर यूनियन के राज्य नेता वित्त सचिव हरमेश मालड़ी, टीएसयू के नेता हरमेश मलसियां और तर्कशील सोसायटी के राज्य नेता बिट्टू रुपेवाली ने अध्यापकों के संघर्ष के समर्थन करने का ऐलान किया। इस दौरान जिला कमेटी चुनी गई, जिसमें गुरमीत सिंह कोटली को अध्यक्ष, अवतार लाल गुराया को सचिव, गुरमुख सिंह सिद्धू को वित्त सचिव और कमलजीत सिंह, बलवीर सिंह, परमजीत सिंह, भजन सिंह, कुलदीप सिंह, सुखविदर प्रीत सिंह, मनजीत सिंह मलसिया, मनवीर सिंह, राजविदर सिंह, बलविदर सिंह मुरीद वाल, अमृतपाल सिंह, अमनदीप सिंह, तरलोचन सिंह, पवित्र सिंह और वीरेंद्र कुमार को जिला कमेटी मेंबर चुना गया। डीटीएच के राज्य जत्थे बंदी कमेटी ने 24 नवंबर को देश भगत यादगार हाल जालंधर में करवाए जा रहे राज्य इजलास में बड़ी गिनती में पहुंचने का फैसला किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!