जागरण संवाददाता, जालंधर : मोगा में तिरंगा उतारकर खालिस्तान का झंडा फहराने को लेकर हिन्दू संगठनों में भारी रोष है। इस संबंध में शुक्रवार को आयोजित बैठक के दौरान पार्टी के एंटी खालिस्तान फ्रंट'के राष्ट्रीय अध्यक्ष निशांत शर्मा व राष्ट्रीय चेयमैन अमित घई ने कहा कि रेफरेंडम 2020 के प्रचार के तहत ही उक्त घटना को अंजाम दिया गया है। उन्होंने कहा कि पंजाब में बमुश्किल शांति बहाल की गई है। लेकिन, खालिस्तान समर्थक तेजी के साथ सक्रिय होने का प्रयास कर रहे है। जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने सरकार से उक्त घटना को गंभीरता से लेते हुए सख्त कदम उठाने की मांग की है। इस मौके पर उनके साथ राष्ट्रीय प्रवक्ता रवि शर्मा, भारती आंगरा, राष्ट्रीय युवा अध्यक्ष ईशांत शर्मा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष परमिदर बट्टी, राष्ट्रीय महासचिव राहुल दुआ, सौरभ अरोड़ा, नरिदर राठौर, प्रदेश चेयरमैन सोनू राणा, कमलजीत सिंह मौजूद थे। खालिस्तानी झंडा लगाना माहौल खराब करने की साजिश : बिल्ला

संवाद सहयोगी, गोराया : मोगा के डीसी आफिस पर खालिस्तानी झंडा लगाने के मामले को शिवसेना के वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजिदर बिल्ला ने पंजाब का माहौल खराब करने की साजिश करार दिया है। उन्होंने बताया कि जिस तरह डीसी आफिस की बिल्डिग पर तिरंगा को उतार खालिस्तानी झंडा लगाया है, इससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि देशविरोधी ताकतें पंजाब का माहौल खराब करना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी देश विरोधी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ऐसे लोग देश के साथ गद्दारी करते हैं। शिवसेना इसका कड़े तरीके से विरोध करती है।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!