कमल किशोर, जालंधर। अब विद्यार्थियों को स्कूल यूनिफार्म वितरित करने के बाद प्रिंसिपल को स्कूल मैनेजमेंट कमेटी को एक सर्टिफिकेट देना होगा। सर्टिफिकेट देने से पहले यकीनी बनाना होगा कि विद्यार्थियों को फ्री यूनिफार्म दी जा चुकी हों। पंजाब सरकार की ओर से पहली से आठवीं कक्षा में पढ़ रही लड़कियों, एससी-एसटी-बीपीएल लड़कों को फ्री यूनिफार्म दी जा रही है। उसके लिए स्कूल मैनेजमेंट कमेटी की जिम्मेवारी होगी कि 31 जनवरी से पहले विद्यार्थियों को वर्दियां वितरित करने का काम पूरा कर लिया जाए।

प्रत्येक विद्यार्थी की वर्दी पर 600 रुपये की राशि दी जाएगी। ई-पंजाब पोर्टल में मिली विद्यार्थियों की जानकारी के मुताबिक ही यह राशि जारी होगी। ई-पंजाब पोर्टल की बात करें तो राज्य की 712794 लड़कियों, एससी-एसटी 485512 लड़के व बीपीएल 77997 लड़कों को वर्दियां दी जाएगी। जिला जालंधर में 46859 लड़कियों, 5932 बीपीएल लड़के, 31559 एससी-एसटी लड़कों को वर्दिया दी जानी हैं।

सप्यालर के पास जीएसटी नंबर होना जरूरी, पेमेंट होगी चेक से

स्कूल मैनेजमेंट कमेटी के सदस्यों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि यूनिफार्म उस सप्लायर से खरीदी जाए जिसके पास जीएसटी नंबर हो। पक्का बिल के साथ यूनिफार्म की खरीदारी की जाए। स्कूल प्रिंसिपल को स्टॉक एंट्री के रजिस्टर को यकीनी बनाना होगा। यूनिफार्म विद्यार्थियों की साइज के मुताबिक होनी चाहिए। सप्यालर को यूनिफार्म की अदायगी चेक के माध्यम से हो न कि नकद राशि से।

प्रिंसिपलों को दिए जा चुके हैं निर्देश

डीईओ सेकेंडरी सतनाम सिंह ने कहा कि यूनिफार्म खरीदने को लेकर स्कूल मैनेजमेंट कमेटी को निर्देश भेजे जा चुके है। 31 जनवरी से पहले विद्यार्थियों को यूनिफार्म वितरित करनी होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!