जेएनएन, फिरोजपुर/जालंधर। Farmers Rail Stop Agitation: अपनी विभिन्न मांगों को लेकर किसानों को प्रदेश में रेल रोको प्रदर्शन शुरू हो गया है। रेलवे के मुताबिक किसान राज्य के विभिन्न ट्रैकों पर जमे हैं। पंजाब पुलिस के साथ-साथ रेलवे पुलिस भी प्रदर्शनकारियों पर नियंत्रण के लिए तैनात है। प्रदर्शनकारियों ने 20 मेल, 12 पैसेंजर ट्रेनों को रोक दिया है। इन ट्रेनों को ब्यास-जालंधर, फिरोजपुर-लुधियाना, फिरोजपुर-फाजिल्का के बीच रोका गया है। इनमें लगभग 25 से 30 हजार यात्री सफर कर रहे हैं। फिरोजपुर रेलमंडल के डीआरएम राजेश अग्रवाल ने यात्रियों से संयम बरतने की अपील की है।

किसानों के प्रदर्शन के कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अभी तक अंबाला पैसेंजर को रद कर दिया गया है, जबकि शान-ए-पंजाब को जालंधर ही रोक कर यहीं से उसे वापस दिल्ली के लिए रवाना किया जाएगा। इसी तरह शताब्दी को ब्यास में रोका गया है। यहीं से वापस उसे दिल्ली भेजा जाएगा। इसके अलावा दिल्ली-पठानकोट एक्सप्रेस को जालंधर कैंट से होते हुए पठानकोट भेजा गया है।

अमृतसर रूट पर ट्रेन रुकने के कारण परेशान यात्री।

फिरोजपुर में किसान मल्लांवाला-मक्खू रेल लाइन के बीच गेट नंबर बी-99 पर धरने पर बैठे हैं। किसानों का कहना है कि सरकार उनके साथ धक्का कर रही है। फसलों का पूरा पैसा नहीं दिया जा रहा है। गन्ने की फसल का भुगतान भी समय पर नहीं किया जा रहा है। किसान पराली जलाने के आरोप में किसानों पर दर्ज मामलों को वापस लेने की भी मांग कर रहे हैं।

रइया में धरने पर बैठे किसान। 

किसानों ने कहा कि सरकार ने पराली न जलाने वाले किसानों को मुआवजा देने की मांग की थी, लेकिन अभी तक अधिकांश किसानों को यह मुआवजा राशि नहीं मिली है। 

रइया में धरने पर बैठे किसानों ने ट्रेनों को रोक दिया।

उन्होंने कहा कि सरकार को पराली न जलाने को लेकर मुआवजे की राशि पहले किसानों के बैंक खाते में तत्काल जमा करवानी चाहिए। पराली को खेत से इंडस्ट्री तक लेकर जाने का पूरा खर्च भी सरकार को उठाना चाहिए। किसानों ने कहा कि गन्ने के भुगतान को लेकर भी सरकार गंभीर नहीं है। चीनी मिलें दोबारा शुरू हो गई हैं, लेकिन किसानों को पिछले साल की अदायगी नहीं हो पाई है।

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने अमृतसर-दिल्ली रेलवे ट्रैक जाम किया।

अमृतसर-खेमकरण रेलवे मार्ग पर किसानों ने लगाया जाम

तरनतारन में अपनी मांगों को लेकर किसान मजदूर संघर्ष कमेटी द्वारा अमृतसर-खेमकरण रेलवे मार्ग स्थित गोहलवड़ में रेलवे ट्रैक पर जाम लगा दिया। इस मौके हरप्रीत सिंह पंडोरी सिधवां ने बताया कि जब तक मांगें पूरी नहीं की जाएगी, तब तक धरना जारी रहेगा। उन्होंने कहा किसानों और मजदूरों की लंबी समय से लंबित मांगों को केंद्र व राज्य सरकार ने अब तक पूरा नहीं किया।

कहां-कहां किसानों ने लगाया धरना 

  • मल्लांवाला-मक्खू के बीच केहर सिंह वाला स्टेशन के पास गेट नंबर डी-99 में धरना दिया 
  • गुरुहरसहाय रेलवे स्टेशन के पास धरना दिया गया 
  • फिरोजपुर-फाजिल्का के बीच धरना 
  • ब्यास रेलवे स्टेशन के बीच धरना 
  • लुधियाना से साहनेवाला के बीच धरना

डीआरएम ने कहा, किसान संयम बरतें 

उधर, डीआरएम राजेश अग्रवाल ने बताया कि किसानों के धरने के चलते 20 मेल ट्रेन और 12 पैसेंजर ट्रेनें प्रभावित हुई हैंं, इन्हें वहीं पर रोक दिया गया है जहां पर यह पहुंची थी। इनमें सवार 25 से 30 हजार पैसेंजर से अपील की है कि वे संयम बरतें और किसानों का धरना खत्म होने का इंतजार करें। उनकी तरफ से लगातार पुलिस प्रशासन के साथ संपर्क बनाया हुआ है, ताकि जल्द से जल्द किसानों का धरना खत्म हो। जैसे ही रेलवे को इस बारे में सूचना मिलती है तो ट्रेनों को उसी समय आगे के लिए बढ़ा दिया जाएगा, लेकिन इससे पहले यह देखा जाएगा कि धरना कब खत्म होता है। बहुत ज्यादा लेट होने की स्थिति ट्रेनें रद भी की जा सकती हैंं या फिर उन्हें वापस भी भेजा जा सकती हैंं। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!