तरनतारन [धर्मबीर सिंह मल्हार]। स्कूल में हो.., लेख मत सुनाना., स्कूल से कालेज चले जाओ.., बीमार हो क्या.., वैद्य या डाक्टर को बोलो...। ये बातें किसी स्कूल के बच्चे या फिर किसी बीमार व्यक्ति से नहीं कही जा रहीं, बल्कि पाकिस्तान में बैठे नशा तस्करों के हेरोइन सप्लाई करने के कोड वर्ड हैं। पंजाब में हेरोइन पहुंचाने के लिए ये इन्हीं कोड वर्ड का प्रयोग करते हैं।

लेख मत सुनाना... का मतलब सच मत उगलना। स्कूल से कॉलेज चले जाओ.. मतलब जेल में हो। बीमार हो क्या.. मतलब हेरोइन की सप्लाई चाहिए। वैद्य या डॉक्टर को बोलो.. मतलब मुख्य सप्लायर से बात करो फिर सप्लाई होगी। यह सच सामने मंगलवार को वॉट्सऐप कॉल के जरिये पाकिस्तान से हेरोइन की खेप मंगवाकर राज्य भर में सप्लाई करने वाले अंतरराष्ट्रीय तस्कर पलविंदर सिंह उर्फ साबी से पूछताछ में।

दरअसल, रविवार को अंतरराष्ट्रीय तस्कर पलविंदर सिंह उर्फ साबी निवासी नौशहरा ढाला को पुलिस ने एक किलो 358 ग्राम हेरोइन के साथ काबू किया था। उसका तीन दिन का पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ शुरू की गई। पूछताछ में साबी ने बताया कि उसके एक वर्ष से पाक में बैठे तस्करों मोहम्मद राम निजाम, मीरजादा कालू, बशीर अहमद व नादर अली के साथ वॉट्सऐप कॉल पर बात होती रहती है। ये सभी तस्कर कोड वर्ड में बात करके सीमा पार से हेरोइन और असला की खेप भेजते हैं।

यह भी पढ़ें: सोनाली फोगाट और सपना चौधरी का मुकाबला, ममता का हुड्डा प्रेम, पढ़ें हरियाणा की और भी रोचक खबरें

मोहम्मद राम निजाम के साथ उसका (साबी का) अधिक संपर्क होता है। इसके माध्यम से हाल ही में हेरोइन की खेप मंगवाकर राज्य भर में सप्लाई की गई थी। यही नहीं पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ के दौरान पाक तस्कर के साथ साबी के उसी मोबाइल से बात करवाई, जिससे वह हेरोइन की खेप मंगवाने के लिए वॉट्सऐप कॉल करता था। पाक तस्कर से पहली बार वॉट्सऐप कॉल के दौरान फोन डिसकनेक्ट हो गया।

यह भी पढ़ें: पंजाब के एक दर्जन गांवों की ग्राउंड रिपोर्ट, दिल्ली बार्डर से लौटकर किसान बन रहे सुपर स्प्रेडर

कुछ देर बाद दूसरी बार जब संपर्क हुआ तो साबी ने हेरोइन की और खेप मंगवाने के लिए कहा। इतना सुनते ही पाक तस्कर ने कहा कि तुम स्कूल में हो..। यह कहते ही पाकिस्तान तस्कर ने कॉल काट दी गई और साबी का मोबाइल नंबर ब्लैक लिस्ट में डाल दिया। पाक तस्कर इतने शातिर हैं कि उन्हें पता चल गया था कि वह पुलिस की हिरासत में है, तभी उन्होंने इस कोड वर्ड का इस्तेमाल किया।

नेटवर्क तोड़ने में जुटी पुलिस

एसपी (इन्वेस्टिगेशन) मेहताब सिंह विर्क, डीएसपी सुच्चा सिंह बल्ल, सीआइए स्टाफ इंचार्ज इंस्पेक्टर शमिंदरजीत सिंह, थाना सराय अमानत खां प्रभारी दीपक कुमार की टीम ने साबी से अहम जानकारी जुटाई है। एसएसपी ध्रुमन एच ¨नबाले कहते हैं कि जांच में सामने आया है कि साबी के साथ पाक तस्कर कोड वर्ड में बात करते हैं। यह साबित हो चुका है कि साबी की गिरफ्तारी के बारे में पाक को खबर हो चुकी है। फिर भी पाक तस्करों के बीच काम करने वाले नेटवर्क को जल्द तोड़ा जाएगा।