जालंधर, जेएनएन। लोहड़ी वाले दिन करतारपुर के गांव धीरपुर में सुपारी लेकर रेत-बजरी कारोबारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। आरोप है कि इस घटना को गांव के ही तीन भाइयों ने अंजाम दिया है। मृतक की पहचान हमीरा के रेत-बजरी कारोबारी जगजीत सिंह के रूप में हुई है। पुलिस ने जगजीत के भाई जतिंदर सिंह के बयान पर गांव धीरपुर में रहने वाले तीन सगे भाइयों सिमरजीत सिंह उर्फ सिमर, अमन और सुखपाल सुक्खा उर्फ निक्का तीनों पुत्र रेशम सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया।

यही नहीं, हत्या की सुपारी देने वाले हमीरा निवासी लखविंदर सिंह उर्फ लक्खा को भी नामजद कर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। करतारपुर के डीएसपी सुरिंदरपाल धोगड़ी और थाना प्रभारी पुष्प बाली ने बताया कि सभी आरोपित घरों को ताला लगाकर फरार हो गए हैं। उनकी तलाश में छापेमारी की जा रही है।

करतारपुर में कारोबारी जगजीत सिंह की हत्या के बाद मौके पर जांच करती हुई पुलिस।

 

पुलिस को दिए बयान में जगजीत सिंह के भाई जतिंदर ने बताया कि वह और उनका भाई हमीरा अड्डे पर रेत-बजरी का काम करते हैं। लोहड़ी वाले दिन वे अपनी गाड़ी स्विफ्ट डिजायर में निजी काम से गांव धीरपुर जा रहे थे। उनके साथ भाई जगजीत सिंह, गांव के पूर्व सरपंच संतोख सिंह और एक अन्य साथी राजन सिंह भी साथ थे। जैसे ही वे गांव में पहुंचे तो उनकी गाड़ी के आगे सिमरजीत सिंह ने अपनी स्विफ्ट गाड़ी लगा दी। गाड़ी में से सिमरजीत और हरमन पिस्तौल लेकर और सुखपाल सिंह बेस बाल बैट लेकर उतरे और सभी को गन प्वाइंट पर लेकर गाड़ी से बाहर निकाल लिया। उन्होंने कहा कि उनकी सुपारी लखविंदर ने दी है। इसके बाद आरोपितों ने उन पर गोली चला दी जो उनके भाई जगजीत सिंह को लगी। वे अपने बचाव के लिए भागे तो हमलावर वहां से गोलियां चलाते हुए फरार हो गए। इसके बाद वे घायल जगजीत को लेकर सेकेर्ट हार्ट अस्पताल पहुंचे, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। थाना प्रभारी पुष्प बाली ने बताया कि चारों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी गई है।

 

चुनावी रंजिश में पहले भी हो चुका है विवाद

जगजीत व उसके भाई जतिंदर सिंह के साथ लखविंदर उर्फ लक्खा व हमलावरों में चुनावी रंजिश को लेकर पहले भी विवाद हो चुका है।  थाना प्रभारी पुष्प बाली ने बताया कि हमलावरों की आपराधिक पृष्ठभूमि है। उनका कहना था कि तीनों में से एक हाल ही में जेल से आया है, जिसके बारे में पता लगाया जा रहा है कि किस मामले में जेल गया था।

 

पहले गाड़ी को मारी टक्कर, फिर किया झगड़ा

जगजीत सिंह की हत्या करने से पहले हमलावरों ने उसकी गाड़ी से अपनी गाड़ी टकराई थी। इसके बाद गाड़ी में से उतरकर विवाद शुरू कर दिया। देखते ही देखते हमलावरों ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं। माना जा रहा है कि टक्कर मारने का एक मात्र उद्देश्य इस मामले को दुर्घटना के चलते हुई लड़ाई बनाने का प्रयास था।

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!