::भारत बंद:::

-लुधियाना में रिक्शे पर आए सांसद व मंत्री, विधायकों ने सड़क पर लगाया चूल्हा, जालंधर में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का रोष मार्च

---

-अमृतसर में बंद से दूर रही कांग्रेस, वामपंथियों ने फूंके पुतले, मानसा में नहीं चलीं प्राइवेट बसें

-ज्यादातर जिलों में सुबह बंद हुए बाजार दोपहर तक खुले, कई जगह सारा दिन बंद रखीं दुकानें

---

जेएनएन, जालंधर: पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ बुलाए गए भारत बंद का पंजाब में मिला-जुला असर रहा। लुधियाना में सांसद व मंत्री रिक्शे पर आए, जबकि जालंधर में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने रोष मार्च निकाला। अमृतसर में कांग्रेस बंद से दूरी रही। यहां वामपंथियों ने पुतले फूंक कर विरोध जताया, जबकि मानसा में प्राइवेट बसें नहीं चलीं। ज्यादातर जिलों में सुबह बंद हुए बाजार दोपहर तक खुल गए। मालवा में कुछ जिलों में कारोबारियों ने सारा दिन दुकानें बंद रखीं। जालंधर में सुबह 10.30 बजे पंजाब प्रदेश कांग्रेस प्रधान एवं सांसद सुनील जाखड़ के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने नारेबाजी की। लुधियाना में सांसद रवनीत सिंह बिंट्टू, कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु, मेयर बलकार सिंह व जिला प्रधान गुरप्रीत सिंह रिक्शे पर सवार होकर घंटाघर पहुंचे। इस दौरान मोदी सरकार का पुतला फूंका गया। विधानसभा क्षेत्र सेंट्रल लुधियाना में सीनियर डिप्टी मेयर शाम सुंदर मल्होत्रा, यूथ कांग्रेसी माणिक डावर ने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर प्रदर्शन किया। विधायक संजय तलवाड़ ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर समराला चौक के नजदीक सड़क के बीच चूल्हा जलाकर महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया।

अमृतसर में बंद का कोई असर नहीं दिखाई दिया। वाम पार्टियों ने बंद को सिर्फ पुतले जलाने तक ही सीमित कर दिया। अमृतसर में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाश पर्व के कारण कांग्रेस ने प्रदर्शनों को स्थगित कर दिया था। वामपंथी पार्टियों के वर्करों ने रोष मार्च व स्कूटर रैली निकाल कर सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ नारेबाजी की और केंद्र सरकार के पुतले फूंके। उधर, मालवा क्षेत्र के मुक्तसर व संगरूर में बंद का खास असर नहीं दिखा। बठिंडा व मानसा में बाजार बंद रहे। हालांकि वाहनों की आवाजाही सुचारू रही। कैप्टन के गृह जिले पटियाला में दोपहर बाद एक बजे दुकानें खुल गई।

---

मीडिया के कारण बढ़ीं पेट्रोल, डीजल की कीमतें: धर्मसोत

नाभा (पटियाला): विवादित बयानों से सुर्खियों में रहने वाले कैबिनेट मंत्री साधू ¨सह धर्मसोत से जब पत्रकारों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी पर सवाल पूछा तो वह तैश में आ गए। उन्होंने कहा, 'इसके लिए मीडिया ही कसूरवार है, जिसने मोदी के जुमले लोगों के सामने पेश करके उन्हें प्रधानमंत्री बनवाया। अब इसका खामियाजा देश को भुगतना पड़ रहा है। कांग्रेस के समय 65 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल था। अब 85 रुपये प्रति लीटर हो गया है। इसके लिए मीडिया ही जिम्मेदार है।'

---

किस मुंह से प्रदर्शन कर रही कांग्रेस: मलिक

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य श्वेत मलिक ने कहा कि पंजाब में सरकार 35 फीसद टैक्स ले रही है। ऐसे में कांग्रेस किस मुंह से प्रदर्शन कर रही है। कांग्रेस को प्रदर्शन करने का कोई हक नहीं।

Posted By: Jagran