संवाद सहयोगी, जालंधर तुसीं किसे नूं टक्कर मार के आए हो, साडे बंदे आ रए ने, जल्दी पैसे दे दियो जे बचना ए तां..ऐसी बातें कह कर लोगों को ठगने वाला गिरोह शहर में सक्रिय है। आए दिन कोई न कोई इस गिरोह का शिकार बनता है। ऐसा ही वाक्या वीरवार को मेरिटोरियस स्कूल, कपूरथला चौक के रिटायर्ड प्रिंसिपल कमल कांत ऐरी के साथ हुआ। उन्होंने बताया कि वह किसी काम से वीरवार दोपहर को मसंद चौक के पास से अपनी कार में निकल रहे थे। इसी बीच उनके कार को एक एक्टिवा सवार युवक ने रोका और कहा कि वह किसी को अपनी कार से टक्कर मार कर आए हैं। जल्दी से बाहर निकलें। उन्होंने बताया कि जब वह बाहर नहीं निकले तो उक्त युवक उनकी गाड़ी के शीशे तोड़ने का प्रयास करने लगा और धमकियां देने लगा कि उसके लोग पीछे आ रहे हैं। यह कह कर उसने कार के अंदर हाथ डाल कर उनकी जेब से पैसे निकालने का प्रयास करने लगा। इसी बीच उन्होंने अपनी गाड़ी भगा ली तो उक्त एक्टिवा सवार उनके पीछे लग गया। वह अर्बन एस्टेट से थाना सात की ओर निकल गए। यह देख एक्टिवा सवार पीछे कहीं और मुड़ गया। वह थाना सात में गए तो वहां पर बैठे पुलिस वालों ने शिकायत लेने के बजाय कहा कि कोई शरारत कर रहा होगा। उन्होंने पुलिस कमिश्नर से अपील की है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। गौर हो कि शहर में ऐसी वारदात पहले भी हो चुकी है। दिल्ली नंबर की गाड़ी देख कर पीछे लगा रिटायर्ड ¨प्रसिपल केके ऐरी ने बताया कि उनकी गाड़ी दिल्ली नंबर की थी। उन्होंने बताया कि शायद दिल्ली का नंबर देख उक्त युवक पीछे लगा होगा कि बाहरी आदमी है, आसानी से लूट लेगा। उन्होंने बताया कि उक्त युवक इतना ¨हसक हो रहा था कि उनको मारने की कोशिश भी कर रहा था।