जालंधर, जेएनएन। कोरोना वायरस की दहशत से गुजर रहे शहरवासियों को थोड़ी राहत मिली है हालांकि खतरा टला नहीं है। सिविल अस्पताल की ओर से भेजे गए कुल 118 सैंपल में से 113 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। हालांकि सिविल में ही दाखिल गांव विरका के चार में से तीन मरीजों के दोबारा लिए गए सैंपलों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। वही, जिन लोगों के सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है उन्हें अस्पताल से छुïट्टी दे दी गई है और उन्हें घर में क्वारंटाइन कर दिया गया है। बुधवार को अस्पताल में दाखिल एक मरीज का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

सिविल सर्जन डॉ. गुरिंदर कौर चावला ने कहा कि अस्पताल में दाखिल चार मरीजों में से तीन के दोबारा टेस्ट करवाए गए थे जो पॉजिटिव पाए गए हैं। उनका उपचार चल रहा है। शेष सभी को छुïट्टी देकर घर में ही क्वारंटाइन किया गया है। उन्होंने कहा कि अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में आइसोलेशन वार्ड में चार कोरोना वायरस के पॉजिटिव मरीज दाखिल हैं। एक संदिग्ध महिला को दाखिल किया गया जिसका सैंपल ले लिया गया है और उसे जांच के लिए सरकारी मेडिकल कॉलेज अमृतसर में भेजा जाएगा।

मरीजों की हालत स्थिर

कोरोना वायरस की गिरफ्त में आए चारों मरीजों में की हालत स्थिर है। वहीं, निजात्म नगर में रहने वाली 72 साल की महिला की भी सीएमसी अस्पताल लुधियाना में हालत ठीक है।

32 एनआरआइ आए जांच करवाने

जालंधर: सरकार की ओर से विदेश से आए लोगों को स्क्रीनिंग न करवाने पर पासपोर्ट रद करने की चेतावनी के बाद बुधवार को भी सिविल अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में लाइनें लगी रहीं। सिविल सर्जन डॉ. गुरिंदर कौर चावला ने बताया कि 65 लोग स्क्रीनिंग करवाने के लिए आए इनमें 32 विदेश से आए लोग थे।

सेहत विभाग की अधिकारी, ड्राईवर तथा दर्जा चार कर्मी क्वारंटाइन

जालंधर: सेहत विभाग की अधिकारी के बच्चे विदेश से आने के बाद उसे नजला, जुकाम, खांसी व बुखार होने पर उठे मामले को विभाग ने गंभीरता से लिया है। सिविल सर्जन डॉ. चावला ने बताया कि तमाम पहलुओं को मद्देनजर विभाग की ओर से अधिकारी सहित उनके ड्राइवर तथा दर्जा चार कर्मी को भी 14 दिन के लिए क्वारंटाइन करने के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने घर में क्वारंटाइन रहने और इस दौरान सबसे दूरी बनाए रखने को कहा गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने लिया सिविल का जायजा, आइसोलेशन वार्ड में सुधार के आदेश

जालंधर: सिविल अस्पताल में कोरोना वायरस के मरीजों की जांच करने के लिए मुहैया करवाई जाने वाली सुविधाओं का जायजा लेने के लिए बुधवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन के एसएमओ डॉ. गगनदीप सिंह ने दौरा किया। उन्होंने सिविल अस्पताल के प्रशासनिक कांप्लेक्स के अलावा वार्ड, आइसोलेशन वार्ड , लैबोरेटरी, एक्सरे यूनिट तथा वहां मुहैया करवाई जाने वाली तमाम सुविधाओं की गहन जांच पड़ताल की। उन्होंने अस्पताल प्रशासन को आइसोलेशन वार्ड में खामियों को सुधारने की हिदायतें दीं। उन्होंने फ्लू कार्नर को आइसोलेसन वार्ड से अलग करने की सलाह दी। इस मौके पर एसएमओ डॉ. कश्मीरी लाल और जिला एपीडेमियोलॉजिस्ट डॉ. सतीश कुमार भी उनके साथ थे।

सिविल अस्पताल में मरीज दाखिल-  05

कुल सैंपल भेजे- 118

निगेटिव - 113

पॉजिटिव - 4

पेंडिंग परिणाम- 01

अस्पताल                         आइसोलेशन बेड                  वेंटीलेटर

निजी अस्पताल                         124                               18

सिविल अस्पताल जालंधर             350                              05

मॉडल नशा छुड़ाओ केन्द्र              50                                ..

पिम्स                                         100                             00

सीएचसी काला बकरा                     08                               --

सीएचसी करतारपुर                       03                                --

सिविल अस्पताल फिल्लौर               26                                --

सीएचसी नूरमहल                           05                               --

सीएचसी बड़ा पिंड                         06                                --

सीएचसी बुंडाला                             15                               --

सीएचसी लोहिया                             09                               --

सीएचसी शाहकोट                           04                               --

पीएचसी महितपुर                            05                                --

सिविल अस्पताल नकोदर                  05                                --

सीआरपीएफ अस्पताल                     04                                -- 

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!