मनुपाल शर्मा, जालंधर। दोआबा के लिए विशेष स्थान रखने वाले आदमपुर एयरपोर्ट के नए टर्मिनल का निर्माण  तमाम दावों के बाद अधूरा है। इसे लेकर सांसद एवं डिप्टी कमिश्नर की सदस्यता वाली एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी की घोषणा भी हवा में ही नजर आ रही है। एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी ने पिछले साल 6 नवंबर को एयरपोर्ट के दौरे के दौरान घोषणा की थी कि नए टर्मिनल का निर्माण जून, 2021 तक निपट जाएगा। लक्ष्य से सवा साल बाद आदमपुर सिविल एयरपोर्ट का नया टर्मिनल चालू होने से कोसों दूर नजर आ रहा है। आदमपुर सिविल एयरपोर्ट के नए टर्मिनल का निर्माण मार्च 2020 में निपटाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। 

6000 वर्ग मीटर में बनाया जा रहा टर्मिनल

नया टर्मिनल 6000 वर्ग मीटर में बनाया जा रहा है। इसके बनने पर 2 एयरबस या बोइंग विमानों का आवागमन एक ही समय में हो सकेगा। नए टर्मिनल निर्माण में टैक्सी ट्रैक, विमानों को खड़ा करने के लिए एपरन, 300 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था, डेढ़ सौ वाहनों को खड़ा करने की क्षमता वाला पार्किंग एरिया, एयरलाइन ऑफिस, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ऑफिस, कैफेटेरिया आदि बनाए जाने हैं।

एक वर्ष और लग सकता है निर्माण पूरा होने में

मौके पर निर्माण की अत्यंत धीमी रफ्तार को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि आगामी एक वर्ष में भी नया टर्मिनल सेवाएं दे पाने में सक्षम नहीं होगा। दोआबा के लिए नए टर्मिनल का निर्माण इस वजह से अति महत्वपूर्ण है क्योंकि टर्मिनल के वर्किंग में आ जाने के बाद ही यहां से बड़े विमानों का संचालन संभव हो सकेगा। मौजूदा समय में मेकशिफ्ट अरेंजमेंट के तहत वर्ष 2018 में बनाया गया टर्मिनल मात्र 75 यात्रियों के बैठने की ही क्षमता रखता है। इस वजह से ज्यादा यात्रियों की क्षमता वाले बड़े विमानों का संचालन करना संभव नहीं है। नए टर्मिनल के निर्माण को लेकर एएआइ के स्थानीय अधिकारियों ने भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

यह भी पढ़ें - CBSE 10th & 12th Result 2021: आज आएगा रिजल्‍ट, अपना परिणाम जानने के लिए अपनाएं ये 6 सिंपल स्टेप्स

Edited By: Pankaj Dwivedi