जागरण संवाददाता, जालंधर

विधानसभा चुनाव के समय के नौ विधानसभा हलकों के सभी 1975 पोलिग बूथों पर 1400 आशा वर्करों, 500 पैरा मेडिकल स्टाफ सहित करीब 2000 कर्मचारी कोविड प्रोटोकाल का पालन करवाएंगे। इसके अलावा ये बायो मेडिकल वेस्ट के उचित निपटारे को भी यकीनी बनाएंगे। यह जानकारी डिप्टी कमिश्नर कम जिला चुनाव अधिकारी घनश्याम थोरी ने दी है।

डीसी ने कहा कि कोविड-19 के मद्देनजर भारतीय चुनाव आयोग की तरफ से चुनाव प्रक्रिया संबंधित जारी दिशा -निर्देशों का पालन किया जाएगा। प्रशासन की तरफ से वोटों वाले दिन हर पोलिग पार्टी को कोविड प्रोटेक्शन किट मुहैया करवाई जाएगी। किट में पीपीई गाउन, मास्क, फेस शील्ड, हैंड सैनिटाइजर सहित ग्लब्स होंगे। बूथ स्तर अधिकारियों और चुनाव ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मचारियों को भी यही किट दी जाएगी। डीसी ने बताया कि जिले के सभी बूथों पर आशा वर्करों और पैरा मेडिकल स्टाफ की तरफ से वोटर की थर्मल स्कैनिग करने के साथ-साथ हैंड सैनिटाइज करवाए जाएंगे। बूथ पर वोटरों को मास्क के साथ-साथ दाहिने हाथ में पहनने के लिए ग्लब्स भी मुहैया करवाए जाएंगे। इस प्रोटोकाल को लेकर स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। हर पोलिग बूथ पर लाल और पीले रंग के 60-60 लीटर के डस्टबिन का प्रबंध किया जाएगा, ताकि वेस्ट को एकत्रित किया जा सके। इस्तेमाल किए जा चुके पीपीई गाउन, एन 95 मास्क, सर्जिकल फेस मास्क, टिश्यू पेपर के लिए पीला डस्टबिन और फेस शील्ड, रबड़ ग्लब्स और पालीथिन ग्लब्स के लिए लाल डस्टबिन हर बूथ पर रखे जाएंगे। इन आदेशों के पालन के लिए सिविल सर्जन को जिला कोविड नोडल अधिकारी लगाया गया है। हलका स्तर पर यह जिम्मेदारी एसएमओ की होगी।

Edited By: Jagran