जालंधर, जेएनएन। पुलिस शहीदी दिवस के मौके पर सोमवार को पीएपी कांप्लेक्स में राज्य स्तरीय कार्यक्रम अायोजित किया गया, जिसमें डीजीपी दिनकर गुप्ता ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। सुबह साढ़े अाठ बजे के करीब राष्ट्रीय भक्ति गीतों के साथ कार्यक्रम का आगाज हुआ।

इस मौके पर डीजीपी गुप्ता ने कहा का पंजाब पुलिस एक बहादुर फोर्स है। उन्होंने कहा कि बीते साल देश भर में कुल 292 में पुलिस अधिकारियों व मुलाजिमों ने शहादत दी। इनमें पंजाब पुलिस के एसटीएफ कांस्टेबल गुरदीप सिंह भी हैं जिसने पिछले माह नशा तस्करों से मुठभेड़ के दौरान शहादत प्राप्त की थी। वह एक निडर सिपाही था, जिसने नशे की खिलाफ लड़ाई में अपनी जान कुर्बान कर दी।

शहीदी दिवस कार्यक्रम के दौरान परेड में हिस्सा लेते पंजाब पुलिस के जवान।

वहीं, शहीदी दिवस कार्यक्रम में शहीद परिवार भी शमिल हुए, जिन्होंने शहीदी स्मारक पर फूल चढ़ा देश के लिए जान लुटाने वाले अपने करीबियों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर डीअाईजी प्रशासन पीएपी सुरिंद्र कुमार कालिया, कमांडेंट पीएपी राजपाल सिंह, जालंधर पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्ला, जालंधर देहात एसएसपी नवजोत सिंह माहल सहित विभन्न जिलों से अाई पुलिस अधिकारी शामिल थे।

60वें पुलिस शहीदी दिवस के मौके पर पौधारोपण करते डीजीपी दिनकर गुप्ता।

इसलिए हर साल मनाया जाता है पुलिस शहीदी दिवस

21 अक्टूबर, 1959 को भारतीय पुलिस बल की एक टुकड़ी मातृभूमि की रक्षा के लिए लद्दाख क्षेत्र में तैनात की गई थी। इस दौरान पहाड़ी पर छिपे चीनी सैनिकों ने घात लगाकर भारतीय टुकड़ी पर हमला कर दिया। छल रूप से किए गए उस हमले में सीआरपीएफ के 10 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे। उन शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए आइटीबीपी की एक टुकड़ी को भेजा था। तब से ही यह दिन सभी केंद्रीय पुलिस संगठनों और पुलिस बलों में शहीदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!