जेएनएन, होशियारपुर

श्री बांके बिहारी सेवा मंडल वेलफेयर कमेटी होशियारपुर द्वारा चेयरमैन पंडित दीपक शारदा की अगुआई में करवाई जा रही श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन की कथा का शुभारंभ गौरव कृष्ण गोस्वामी जी ने भजन बिहारी बृज में घर मेरा, बसा दोगे तो क्या होगा, कृपा करके जो वृंदावन बुला लोगे तो क्या होगा.. सवे किया।

इस अवसर पर कथा करते हुए गौरव कृष्ण गोस्वामी ने कहा कि जिसमें विश्वास और भरोसा हो, वह प्रतिक्षा व प्रतिज्ञा जरूर सफल होती है और गो¨बद के दर्शन अवश्य होते हैं। प्रतिक्षा घड़ी नहीं देखती, दिन नहीं देखती और यह तो काल समय से परे निकल जाती है। तुलसी पूर्ण पाप ते हरि चर्चा न सोहाए जैसे जड़ के वेग में भोजन की रूची जाए। गौरव कृष्ण गोस्वामी ने कहा कि भगवान का भजन करते समय अगर हमें रस, स्वाद का अनुभव न हो, तो समझ लेना कि हमारे पाप सामने आ रहे हैं। वृंदावन जाना भजन करना श्रद्धा से कथा सुनना, घर में जुगल जोड़ी की सेवा करना, भजन करना जैसी बड़ी-बड़ी बातें तो हम करते हैं, परंतु जब भी भजन व सेवा का अवसर आता है, तो हम उसके लिए भी समय नहीं निकालते।

24 घंटे में हम दुनियादारी की मोह-माया में उलझकर प्रभु को भूल बैठे हैं। अगर हम पांच मिनट भी मन लगाकर प्रभु का ध्यान करें, तो हम उसकी कृपा को प्राप्त कर सकते हैं।

इस दौरान उन्होंने मनु के बड़े पुत्र प्रियव्रत की कथा सुनाते हुए बताया कि प्रियव्रत ने भी एक व्रत लिया था, वो था प्रभु का भजन करने का व्रत। इस दौरान गोस्वामी जी ने ऋषभ देव की कथा, भगवान श्री राम की कथा, राम जन्म की कथा का सुंदर प्रसंग सुनाने के बाद भगवान श्री कृष्ण जी के जन्मोत्सव की कथा का बड़े ही सुंदर ढंग के साथ वर्णन किया।

इस अवसर पर भगवान श्री राम, भगवान श्री कृष्ण जी के जन्मोत्सव संबंधी आकर्षण झांकियां भी दिखाई गई। इस अवसर पर मुख्य यजमान ब्रिजेश चंद्र गुप्ता (विजय ब्राइडल), रघुवीर बंटी, कमलजीत सेतिया, सुषमा सेतिया, मनीष गुप्ता (बिल्ला ब्रिक्स), कुशा गुप्ता, मीनाक्षी शारदा, विश्व प्रसिद्ध फेस रीडर लक्की स्वामी, रोहित शर्मा, रोहित राधे, अनिल, विक्का, राजन शर्मा, धीरज, पप्पी सोढी, सु¨रदर कौशल, विनोद, चेतन, विजय, मोहित एवं सन्नी सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Edited By: Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!