जागरण संवाददाता, होशियारपुर : नशे की तस्करी के मामले में जिला पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने प्रदेश स्तरीय ड्रग रैकेट का भांडाफोड़ कर तीन आरोपितों को 70 ग्राम हेरोइन व 10.90 लाख ड्रग मनी सहित काबू किया है। पुलिस ने आरोपितों की एक कार भी कब्जे में ली है जिसपर आरोपितों ने जाली नंबर प्लेट लगाई हुई थी। आरोपितों की पहचान पवित्र सिंह पुत्र हरभजन सिंह निवासी हसलपुर परहोता, त्रिपड़ी पटियाला, संजय यादव उर्फ संजीव पुत्र कोमल यादव निवासी वार्ड नंबर 14 ढंडियाल रोड, सुंदर बस्ती थाना पातड़ा पटियाला और नरिदर सिंह उर्फ नरिदर पुत्र रणजीत सिंह निवासी भामियां थाना खेड़ी नोधसिघ जिला फतेहगढ़ साहिब के रुप में हुई है। गिरोह का सरगना अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है जिसकी तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है। सरगना की पहचान अमरीक सिंह पुत्र रघुवीर सिंह निवासी सरहिद रोड, पटियाला के रुप में हुई है। अमरीक सिंह पर पहले भी होशियारपुर के थाना माहिलपुर में दो अप्रैल 2021 को नशे की तस्करी का मामला दर्ज हुआ था। उस मामले में अमरीक सिंह के साथियों से आठ किलो हेरोइन बरामद हुई थी। अमरीक की तब से पुलिस को तलाश है। बता दें कि आरोपित पूरे प्रदेश में ड्रग्स की सप्लाई कर रहे थे। श्रीनगर से लौट रहे थे आरोपित

इस संबंधी जानकारी देते हुए एसपी आरपी सिद्धू ने बताया कि गत दिवस सीआइए स्टाफ को गुप्त सूचना मिली थी कि इलाके में नशे की तस्करी करने वाले लोग घूम रहे हैं। जिसके बाद पुलिस ने सूचना के आधार पर ट्रैप लगाकर आरोपितों को कमेटी बाजार के टी प्वाइंट से काबू किया। उन्होंने बताया कि आरोपितों की तलाशी लेने पर उनसे कुल 70 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। आरोपितों ने 2.10 लाख रुपये में हेरोईन की खरीददारी की थी। उनकी गाड़ी की गहनता से तलाशी लेने पर पुलिस ने 10.90 लाख रुपए ड्रग मनी भी बरामद की। पूछताछ करने पर आरोपितों ने बताया कि वह श्रीनगर के पास किसी स्थान से हेरोइन खरीद कर लाए हैं। एसपी आरपी सिद्धू ने बताया कि पूछताछ में बात सामने आई है कि आरोपित इससे अधिक नशा खरीदने के लिए पैसे लेकर गए थे परंतु वहां किसी बात को लेकर इनका सौदा तय नहीं हो पाया और यह केवल 70 ग्राम हेरोइन ही खरीद सके। दो आरोपितों को हो चुकी है दस साल कैद, जमानत पर हैं बाहर

एसपी सिद्दू ने बताया कि काबू किए गए तीनों आरोपितों में से दो आरोपित पवित्र सिंह व संजय यादव पर पहले ही एनडीपीएस एक्ट के तहत मामले दर्ज हैं। दोनों को दस दस साल कैद हो चुकी है। फिलहाल वे जमानत पर जेल से बाहर आए थे। जेल से बाहर आकर आरोपितों ने फिर अमरीक से संपर्क कायम किया और नशे की तस्करी में लग गए। संजय पर इससे पहले आठ और पवित्र पर चार मामले दर्ज हैं। कुछ और आरोपित भी होंगे जल्द काबू

उन्होंने बताया कि आरोपितों को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया गया है। प्राथमिक पूछताछ में उन्होंने बताया कि वह पहले भी जम्मू-कश्मीर से नशा लाकर सप्लाई करते रहे हैं। इस बार भी वह श्रीनगर के पास के एक इलाके से नशा लेकर आए थे। श्रीनगर में आरोपितों का किन लोगों से संपर्क था व पंजाब में खास तौर पर होशियारपुर में यह किन लोगों के संपर्क में थे इसके बारे में पूछताछ जारी है। उन्होंने बताया कि मामले में कुछ अन्य आरोपितों की भी जल्द गिरफ्तारी की संभावना है।

Edited By: Jagran