जेएनएन, होशियारपुर

होशियारपुर में रेलवे मंडी के पास बन रहे रेलवे ओवरब्रिज बनाने का मामला उलझता जा रहा है। इस मामले को दुकानदारों के एक समूह ने उठाया था। अब इसे रेलवे ओवरब्रिज के साथ लगते सभी दुकानदारों के अतिरिक्त पूरे शहर का भरपूर समर्थन मिलने लगा है। संघर्ष कमेटी द्वारा चलाए गए हस्ताक्षर अभियान ने आग में घी का काम करके उसका सेक समाज के सभी वर्गों तक पहुंचाने का काम किया है क्योंकि यह मुद्दा जनता से सीधे तौर पर जुड़ा है। सैकड़ों परिवारों की रोजी-रोटी से संबंधित है। इसलिए आम दुकानदारों के नेतृत्व के साथ-साथ राजनीति से संबंधित लोगों ने भी इंटरनेट मीडिया में उठाए गए इस मुद्दे में अपनी दिलचस्पी दिखाई है। हस्ताक्षर अभियान में क्षेत्र से संबंधित अकाली पार्षद संतोख सिंह औजला ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

शुक्रवार को पीड़ित दुकानदारों के प्रतिनिधिमंडल ने हस्ताक्षर अभियान के बाद होशियारपुर से पूर्व मंत्री तीक्ष्ण सूद से भेंट की व उन्हें ज्ञापन देकर सहयोग की अपील की। सूद ने पीड़ित दुकानदारों के प्रतिनिधिमंडल की तकलीफ को बहुत ही ध्यान से सुनकर उन्हें यथासंभव सहयोग देने की बात भी की है। इस मामले में नतीजे चाहे कुछ भी निकलें लेकिन रेलवे ओवरब्रिज का मुद्दा होशियारपुर में राजनीति के भविष्य को प्रभावित करने वाला बनने जा रहा है। दुकानदारों को दिया गया आश्वासन इस मुद्दे की धार को और तेज करेगा।

संघर्ष कमेटी के नौजवान प्रतिनिधि अमित आंगरा ने कहा कि उन्होंने हस्ताक्षर करवाने के दौरान दुकानदारों का दर्द छलकते देखा है। कोरोना संकट की मंदी के चलते यह ओवरब्रिज दुकानदारों की रोजी-रोटी खत्म करने का उपकरण बनेगा। इसीलिए रेलवे ओवरब्रिज के काम को रोकने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। इस मौके पर जिला अध्यक्ष निपुण शर्मा, महामंत्री विनोद परमार, सतीश बावा, पूर्व मेयर शिव सूद, विजय पठानिया, जिदू सैनी, राजा सैनी, यशपाल शर्मा, बलजिदरजीत सिंह, रवि गुप्ता, संजीव अग्रवाल, कुलविदर सिंह, अवतार सिंह बग्गा, सतीश कुमार, राज कुमार, अमरजीत, मनी आदि मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021