जेएनएन, होशियारपुर। सिख जत्‍थे के साथ पाकिस्‍तान जाकर शादी करने वाली किरण बाला उर्फ अामन बीबी ने अपने तीन बच्‍चों को भी अपना मानने से इन्‍कार किया है। उसने कहा है कि भारत में उसका कोई बच्‍चा नहीं है। उसने लाहौर हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा है कि भारत में उसके पति की मौत हो गई थी अौर उसका कोई बच्‍चा है। इस पर किरणबाला के ससुर तरसेम सिंह ने कहा है कि वह झूठ बोल रही है। उसके तीन बच्‍चे हैं और इसके सुबूत भी हैं।

तरसेम सिंह ने कहा कि किरण बाला पाकिस्‍तान में सरासर झूठ बोल रही है। तीनों बच्चे उसी के हैं। इसका मेरे पास पुख्ता सुबूत भी है। किरणबाला ने पाकिस्तान में कहा था कि तीनों बच्चे उसके नहीं, बल्कि उसकी खाला के हैं। इससे तरसेम सिंह स्तब्ध हैं। किरण के बच्चे होने या फिर न होने की सच्चाई जानने के लिए जागरण की टीम गढ़शंकर पहुंची तो तरसेम सिंह ने इस संबंध में कई जानकारियां दीं।

ससुर ने दिखाए बच्चों के बर्थ सर्टिफिकेट

तरसेम सिं‍ह ने दस्तावेज दिखाते हुए कहा कि किरण उसकी बहू है और तीनों बच्चे भी उसी के हैं। उन्होंने कहा कि उनके बेटे के साथ किरण की शादी 2005 में हुई थी। तीनों बच्चों का जन्म गढ़शंकर के सिविल अस्पताल में हुआ है। बड़ी बेटी इंद्रजीत कौर का जन्म 27 जून, 2006 को हुआ था। फिर बेटे अर्जुन का जन्म 10 दिसंबर, 2010 को हुआ था और छोटे बेटे गुरमुख सिंह का जन्म 26 मई, 2012 को हुआ था। यह सब कुछ सरकारी रिकॉर्ड में भी दर्ज है।

उन्होंने हैरानी जाहिर करते हुए कहा कि कोई महिला अपने बच्चों को लेकर भी झूठ कैसे बोल सकती है। तरसेम ने कहा कि बेटे (किरणबाला के पति) नरिंदर सिंह की मौत के बाद किरण उनके पास रहती थी। तरसेम ने कहा कि वह यह सारा दस्तावेज भारत सरकार को सौंप रहे हैं, ताकि किरणबाला के झूठ का पर्दाफाश हो सके।

किरणबाला का पहले पति, सास, ससुर और अपने तीन बच्‍चों के साथ फोटो।

बता दें कि हर साल बैसाखी आैर अन्‍य अवसरों पर सिख जत्‍था पाकिस्‍तान स्थित श्री ननकाना साहिब और अन्‍य गुरुघरों के दर्शन के लिए जाता है। इस बार गए जत्‍थे में होशियारपुुर के गढशंकर की महिला किरणबाला भी गई थीे। किरण बाला 16 अप्रैल को जत्‍थे से गायब हो गई। किरण बाला धर्म बदलकर मुस्लिम बन गई और अपना नाम आमना बीबी रख लिया। उसने लौहार के एक युवक से निकाह कर लिया।

हाईकोर्ट में दी याचिका में भारत में कोई बच्‍चा होने से किया इन्‍कार

किरणबाला उर्फ आमना बीबी ने शुक्रवार को पति मोहम्मद आजम के साथ लाहौर हाईकोर्ट में याचिका दायर की। बताया जाता है कि उसने याचिका में बताया कि उसने दिल्ली में रहते हुए पहले फेसबुक के माध्यम से लाहौर निवासी मोहम्मद आजम से दोस्ती की थी। अब पाकिस्तान आकर रजामंदी से इस्लाम कबूल कर उसने निकाह किया है। इसलिए पाकिस्तान सरकार उसे यहां की नागरिकता दे।

यह भी पढ़ें: किरणबाला के बाद एक और सिख श्रद्धालु पाक में गायब, सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप

उसने यह भी बताया कि भारत में उसका विवाह हुआ था। पंजाब के होशियारपुर निवासी पति की मौत हो गई थी, लेकिन उसका कोई बच्चा नहीं है। किरण की याचिका पर लाहौर हाईकोर्ट ने दो टूक फैसला सुनाते हुए कहा कि पाकिस्तान में पनाह देना विदेश विभाग के हाथ में है। हाईकोर्ट ने पाक विदेश विभाग के इस्लामाबाद में स्थित सचिव को भी आमना बीबी की दरखास्त भेज दी है।

बाद में पाकिस्‍तान में मीडिया द्वारा भारत में उसके ससुर के साथ रह रहे तीन बच्‍चों के बारे में पूछे जाने पर किरणबाला उर्फ आमना बीबी ने कहा कि वहां उसके साथ रह रहे बच्‍चे दरअसल उसके खाला के बच्‍चे हैं। उसका पहले पति से काेई बच्‍चा नहीं था।

पहले पति और अपने बच्‍चों के साथ किरणबाला। (फाइल फोटो)

----------

पाकिस्तान अकाफ बोर्ड के सचिव ने कहा- भारत वापस जाना होगा किरण बाला उर्फ आमना बीबी को

पाकिस्तान से इस बाबत पाकिस्तान अकाफ बोर्ड के सचिव तारिक वजीर खां ने बताया कि किरण बाला उर्फ आमना बीबी श्री ननकाना साहिब पाकिस्तान से सिख श्रद्धालुओं के जत्थे से भागी है। उसका पासपोर्ट लाहौर के अकाफ बोर्ड लाहौर के पास है। शुक्रवार रात तक पाकिस्तान विदेश विभाग की ओर से कोई कार्रवाई न की गई तो वह किरण बाला को भारतीय सिख श्रद्धालुओं के जत्थे के साथ वापस भारत भेजेंगे।

--------

दूसरे पति के घर पाक पुलिस का पहरा

 किरण बाला उर्फ आमना बीबी इस समय मुल्तान रोड लाहौर में अपने ससुराल घर में है। उसके ससुराल घर को पाकिस्तान पुलिस की ओर से चारों ओर से घेर रखा है ताकि वीजा न मिलने की सूरत में उसे गिरफ्तार करके सिख जत्थे के साथ ही भारत भेजा जा सके।

पाकिस्‍तान के लाहौर में नए  शौहर के साथ किरणबाला उर्फ आमना बीबी।

केंद्र सरकार दे दखल, किरण की न बढ़े वीजा अवधि : तरसेम

होशियारपुर : पाकिस्तान में निकाह करने वाली किरण बाला के ससुर तरसेम सिंह ने गुहार लगाई है कि उनकी बहू की वीजा अवधि न बढ़े। इसके लिए केंद्र सरकार दखल दे। उन्होंने गढ़शंकर के पूर्व विधायक लव कुमार गोल्डी से इस मसले को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ध्यान में लाने की फरियाद की है। साथ ही, अपील की है कि मुख्यमंत्री इस मसले को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के समक्ष उठाकर कहें कि वह पाकिस्तान पर दबाव बनाएं कि किरण बाला के वीजा की अवधि बढ़ाने की मंजूरी न दे, ताकि वह अपने वतन वापस लौट सके।

उन्होंने किरण बाला के आइएसआइ के हत्थे चढऩे की आशंका को फिर दोहराया है।

किरण बाला उर्फ आमना बीबी का पाकिस्‍तान में जारी निकाहनामा।

किरण बाला उर्फ आमना बीबी के वीजा 21 अप्रैल तक था। ऐेसे में उसने पाकिस्‍तान विदेश विभाग में वीजा की अवधि तीन माह बढ़ाने की अर्जी दी है, लेकिन इस बारे में क्‍या निर्णय हुआ है यह पता नहीं चला है।

-------

लाहौर के रावी दरिया के निकट से गायब हो गई थी किरण

अटारी (अमृतसर) : वैशाखी पर्व पर जत्थे के साथ पाकिस्तान में गुरुधामों के दर्शनों को गई गढ़शंकर की किरण बाला पंजा साहिब से लाहौर लौटते समय रावी दरिया के निकट से अचानक ही बस से गायब हो गई थी। सूत्रों के अनुसार, यहां बस कुछ समय के लिए रुकी थी। इसी दौरान किरण सारा सामान छोड़कर गायब हो गई थी।

हैरानी की बात है कि उसके आस-पास बैठे श्रद्धालुओं ने भी इसकी तरफ ध्यान नहीं दिया और जत्थे का नेतृत्व कर रहे गुरमीत सिंह बूह को इसका पता लाहौर पहुंचने पर कमेटी की ओर से सूचित किए जाने पर चला। एसजीपीसी की ओर से 7वीं बार पाक के गुरुधामों में जत्थे का नेतृत्व करने वाले बूह ने इसमें अपनी जिम्मेवारी से आनाकानी की है।

किरण ने जत्थे की मर्यादा को किया भंग: बूह 

गुरमीत सिंह बूह ने कहा कि किरण बाला ने जत्थे की मर्यादा को भंग किया और  विश्वास भी तोड़ा है। जत्थे में जाने का मकसद गुरुधामों के दर्शन करना ही रहता है, लेकिन इसने जत्थे को अपने निजी स्वार्थों के लिए इस्तेमाल किया।  उन्होंने कहा कि वह पहले से ही एसजीपीसी से कहते रहे हैं कि अकेली लड़की को जत्थे में वीजा न दें। एसजीपीसी से इस मामले में जांच करवाने को कहेंगे।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!