संवाद सहयोगी, होशिायारपुर : होशियारपुर के रेलवे रोड एक बैंक में उस समय माहौल गरमा गया जब मोहल्ला हरी नगर की रहने वाली सुनीता मल्होत्रा ने अपनी 20 लाख की एफडी के बारे में जानकारी मांगी। बैंक बैंक मुलाजिमों ने बताया कि उसकी एफडी तो तोड़ दी गई और राशि एक खाते में ट्रांसफर भी कर दी गई है। 20 लाख रुपये एक झटके से हाथ में से निकलने की बात सुनकर सुनीता को होश उड़ गए। उसने हंगामा शुरू कर दिया। सुनीता का आरोप था कि उसने तो एफडी तुड़वाई ही नहीं है वह तो दो महीने बाद मच्योर होनी थी फिर उसकी मर्जी के बगैर एफडी कैसे टूटी और किसके कहने पर टूटी। मामला जब खुला तो पता चला कि सुनीता की एफडी उसके देवर ने तुड़वा दी और सारी रकम अपने खाते में डलवा ली है। सुनीता का हंगामा सुन आस पास के लोग भी एकत्रित हो गए। उसने आरोप लगाया कि बैंक मुलाजिमों ने अपनी ड्यूटी के प्रति लापरवाही बरती है इसलिए उसके पैसे लौटाए जाएं। इस पर बैंक कर्मी सकते में आ गए और आनन फानन में बैंक के मुलाजिमों ने जिस एकाउंट में राशि ट्रांसफर की गई थी उसे फ्रिज कर दिया। इस संबंधी जांच शुरू कर दी है। मौके पर पहुंचे बैंक अधिकारियों ने सुनीता को बताया कि कुछ दिन पहले उसके देवर पवन मल्होत्रा ने यह एफडी तुड़वाई है। लेकिन जब सुनीता ने यह तर्क दिया कि उसने जब हस्ताक्षर नहीं किए तो वह उसके पैसे कैसे ट्रांसफर कर सकते हैं तो बैंक मुलाजिमों को पास कोई जवाब नहीं था। बैंक अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि इस मामले में पवन मल्होत्रा के साथ मिलीभगत करने वाले मुलाजिम के खिलाफ भी बनती कार्रवाई की जाएगी। जिसके बाद मामला शांत हुआ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!