संवाद सहयोगी, होशियारपुर : पिछले दस दिन से बिजली बोर्ड की घटिया कार्य प्रणाली और बिजली के अघोषित कटों परे परेशान किसानों ने चार घंटे फगवाड़ा रोड पर जाम लगाया। गुस्साए काहरी साहरी और उसके आसपास के करीब बीस गांवों के किसानों ने लोगों ने शनिवार सुबह करीब दस बजे से लेकर दो बजे तक फगवाड़ा बाइपास पर जाम लगाकर पावरकाम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इस मौके हरपाल सिंह संघा प्रधान आजाद किसान कमेटी दोआबा जोन के साथ हरबंस सिंह संघा ने अपने संबोधन में कहा कि काहरी साहरी और उसके आसपास के करीब बीस गांवों में पिछले दस दिन से बिजली सप्लाई की घटिया कारगुजारी चल रही है। जिसके चलते उनकी फसलों का बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है। बिजली विभाग एक तो बगैर कोई नोटिस जारी किए ही कट लगा रही है और ऊपर से कट इतने ज्यादा लंबे होते हैं कि पता ही नहीं चलता कि बिजली की स्पलाई कब शुरू होगी। हरपाल संघा ने बताया कि जब भी बिजली स्पलाई की जानकारी लेने के लिए विभाग से संपर्क करने की कोशिश की जाती है तो वह अपना फोन पहले तो उठाते ही नही उसके बाद रिसीवर उठा कर नीचे रख देते हैं, जिसके चलते बिजली बोर्ड के खिलाफ गुस्साए किसानों ने बिजली बोर्ड के खिलाफ धरना लगा कर उनको सबक सिखाना जरूरी समझा। जाम का पता चलते ही पुलिस पार्टी के साथ धरना स्थान पर पहुंचे बिजली कर्मचारियों ने किसानों के साथ बात करके भरोसा दिलाया कि बिजली की सप्लाई बंद करने से पहले उनको सूचित कर दिया जाएगा और यह भी बताया जाएगा कि कट कब तक चलेगा। इस अवसर पर हरपाल सिंह संघा के साथ हरबंस सिंह, हरजाप सिंह साहरी, योगा सिंह राय, सोढी काहरी, हरप्रीत सिंह, हरजिदर सिंह, मनजिदर सिंह पुरहीरां, सोहन सिंह सुखपाल सिंह काहरी और हरजिदर सिंह के साथ अन्य किसान मौजूद थे। यात्रियों को हुई भारी परेशानी

जाम दौरान फगवाड़ा बाईपास के दोनों तरफ वाहनों की लंबी लंबी कतारें लग गई। क्योंकि यही मुख्य मार्ग है यहां से लुधियाना, जालंधर, चंडीगढ़ और फगवाड़ा के लिए बस सेवा निकलती है मगर वाहनों की लंबी कतारें होने पर लोगों को आसपास के गांवों से रास्ता निकाल निकाल कर अपने गंतव्य तक जाना पड़ा।

Edited By: Jagran