जागरण संवाददाता, गुरदासपुर : महंत रविदास के नेतृत्व में मंदिर एक्ट को लेकर निकाली जा रही रथ यात्रा का शुक्रवार को हिंदू महागठबंध गुरदासपुर द्वारा शिवसेना कार्यालय में स्वागत किया गया। महंत रविदास ने कहा कि पंजाब में हिंदू अल्पसंख्यक है। हिंदू बहुत ही दयनीय स्थिति से निकल रहा है।

उन्होंने कहा कि हिंदू समुदाय के अतिरिक्त अन्य प्रत्येक समुदाय के वेलफेयर के लिए आयोग आदि का गठन किया गया है, मगर हिदुओं के मंदिरों तक को स्वतंत्र नहीं किया जा रहा है। अन्य समुदायों के धार्मिक स्थलों पर उस समुदाय का अपना एकाधिकार होता है, मगर हिदुओं के धार्मिक स्थलों पर सरकारों का नियंत्रण होता है। इसके अतिरिक्त अगर किसी अन्य समुदाय के साथ कुछ गलत होता है तो उसकी सुनवाई आराम से हो जाती है, लेकिन हिदुओं को दर-दर भटकना पड़ता है। आमतौर पर देखा जाता है कि कोई भी असामाजिक तत्व हिदुओं के देवी-देवताओं के बारे में भद्दी शब्दावली का प्रयोग करते हैं, मगर लाख शिकायत करने पर भी हिदू की सुनवाई नहीं होती है। इसके विपरीत अगर हिदू से कोई गलती हो जाती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई पल भर में कर दी जाती है, इसलिए इस रथ यात्रा के माध्यम से सरकार से मांग की गई है कि हिदुओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित करते हुए मंदिर एक्ट और हिदू आयोग का गठन किया जाए। जब तक मंदिर एक्ट नहीं बन जाता तब तक संघर्ष चलता रहेगा। इस मौके पर शिवसेना बाला साहेब ठाकरे, शिवसेना हिद, शिवसेना हिदुस्तान, शिवसेना समाजवादी, शिवसेना शेरे हिद, शिवसेना पंजाब, रामनवमी महोत्सव कमेटी, सेवा भारती, देवसेना, ब्राह्मण सेवा दल, कार सेवा कमेटी माई का तालाब मंदिर, मानव कल्याण मिशन सोसायटी के सदस्य उपस्थित थे।

Edited By: Jagran