जागरण संवाददाता, गुरदासपुर। पंजाब सरकार द्वारा पिछली कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान जीओजी स्कीम के तहत भर्ती किए गए पूर्व सैनिकों को फारिग कर दिया गया है। इसके विरोध में जीओजी जवानों द्वारा लगातार विरोध प्रदर्शन किए जा रहे है। इसी कड़ी के तहत जीओजी जवानों  ने शनिवार को धारीवाल में आयोजित किसान मेले के दौरान आम आदमी पार्टी के मंत्री व अन्य नेताओं के घेराव की घोषणा की गई थी।

वीडियाें हाे रही इंटरनेट मीडिया पर वायरल

इस दौरान प्रदर्शनकारियों द्वारा आम आदमी पार्टी के नेता व पंजाब हेल्थ सिस्टम कारपोरेशन के चेयरमैन रमन बहल, जिला प्रधान जगरुप सिंह सेखवां व दीनानगर के हलका इंचार्ज शमशेर सिंह को काफी देर तक रोक लिया गया। जिन्हें बाद में कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने के लिए दूसरे रास्ते से पैदल जाना पड़ा। लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उनका पीछा किया। इसके चलते उक्त नेता भाग पड़े। इसकी वीडियो खूब वायरल हो रही है।

बिना नोटिस दिए ही जोओजी काे हटाया

प्रदर्शनकारी जीओजी जगजीत सिंह ने कहा कि सरकार ने बिना नोटिस दिए ही जोओजी स्कीम (खुशहाली के रक्षक) को बर्खास्त कर दिया। जिससे समूह सैनिकों के स्वयंमान को यह कहकर ठेस पहुंचाई गई है कि जिस उद्देश्य के लिए इन्हें नियुक्त किया गया है, उस उद्देश्य को पूरा करने में पूरी तरह से यह जीओजी फेल हुए है और पिछले चार वर्षों में इनका कोई योगदान नहीं रहा। पंजाब सरकार ने जिस काम को जीओजी को दिया था। वह आंखों से देखना, कानों से सुनना और जमीनी हकीकत को सरकार के ध्यान में लाना था।

कई बार मांगपत्र देने के बाद भी सुनवाई नहीं

हालांकि जीओजी काफी हद तक कामयाब भी रहे हैं। कई मांगपत्र के माध्यम से सरकार को कारण बताने को कहा गया है, लेकिन सरकार ने कोई जवाब नहीं दिया। जिस कारण मजबूरन सरकार के खिलाफ सडक़ों पर उतरना पड़ा। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार अपना फैसला वापिस नहीं लेती, प्रदर्शन इसी तरह जारी रहेंगे।

Edited By: Vipin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट