संवाद सहयोगी, दीनानगर : पीटीयू के दोदवां कैंपस को मंत्री की सिफारिश पर आइटीआइ में तब्दील करने के फैसले के विरोध में भाजपा नेताओं और वर्करों की भूख हड़ताल जारी है। शुक्रवार को सभी ने मंत्री अरुणा चौधरी व पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

भाजपा जिला प्रधान परमिदर सिंह गिल के दिशानिर्देश अनुसार भाजपा एससी मोर्चा की टीम व पीटीयू कैंपस बचाओ संघर्ष कमेटी के सदस्यों ने कैंपस को बंद करने के विरोध में आठवें दिन भी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल भाजपा एससी मोर्चा के जिला प्रधान यशपाल कुंडल की अध्यक्षता में जारी रखा। इसमें पीटीयू कैंपस बचाओ संघर्ष कमेटी के को-कन्वीनर बेबी भगत विशेष रूप से उपस्थित हुए। जिला प्रधान यशपाल कुंडल ने कहा कि सीमावर्ती गांव दोदवा में स्थित उच्च तकनीकी कैंपस को आइटीआइ में बदलने का मंत्री अरुणा चौधरी व पंजाब सरकार का फैसला शिक्षा विरोधी है। उन्होंने कहा कि कैंपस में 90 प्रतिशत बच्चे अनुसूचित जाति से सबंधित प्रधानमंत्री छात्रवृत्त योजना के अंतर्गत मुफ्त में शिक्षा ग्रहण कर रहे थे।

जिला प्रधान यशपाल कुंडल ने कहा कि पीटीयू कैंपस दोदवा को जब पूर्व सांसद विनोद खन्ना ने वर्ष 2014 में बीटेक कंप्यूटर साइंस व बीसीए दो कोर्स के साथ खुलवाया था तब भी हलके की विधायिका अरुणा चौधरी ही थी, जो अब पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री है। उनको कैबिनेट में स्थान भी अनुसूचित जाति के खाते में से ही मिला है। उसके बावजूद इन छह साल में मंत्री ने आइकेजी पीटीयू कैंपस में कोर्स की बढ़ोतरी के लिए कोई सिफारिश नहीं की। यशपाल कुंडल ने कहा कि अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल के आठ दिन बीत जाने के वाद भी स्थानीय पुलिस द्वारा हड़ताल वाली जगह में सुरक्षा व्यवस्था नहीं की गई है। भूख हड़ताल पर बैठे कार्यकर्ताओं के लिए किसी तरह की कोई मेडिकल सुविधा उपलब्ध नहीं करवाया गया है। इस मौके पर सतपाल, हरजिदर सिरकिया, विपन कुमार, जगदीश राज, मोहन लाल, तरसेम लाल, रशाल चंद, डीएसपी रिटायर्ड कर्म चंद, सुरिदर कुमार, बूटी राम, अंशु बाला, आयुझा देवी, परवीन चौधरी, राजन साई, जसबीर जस्सू, संजू, कमल कुमार, कृष्ण कुमार , हरदीप सिंह आदि अन्य पार्टी पार्टी कार्यतकर्ता उपस्थित थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!