संवाद सहयोगी, गुरदासपुर :

एडीसी के दौरे के बाद सिविल अस्पताल गुरदासपुर में आक्सीजन प्लांट लगाने का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। हालांकि अस्पताल के सभी सौ बेडों पर आक्सीजन पाइपलाइन का काम पहले ही मुकम्मल हो चुका है। अब बस प्लांट लगने का काम रह गया है,जिसका निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है।

50 से 60 लाख की लागत वाले इस आक्सीजन प्लांट को अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड के बाहर ही लगाया जा रहा है, ताकि प्लांट तैयार होने के बाद इससे तैयार आक्सीजन को सीधा इमरजेंसी के साथ जुड़ी पाइप लाइन से जोड़ा जा सके।

बुधवार को एडीसी राहुल ने आक्सीजन प्लांट वाली जगह का निरीक्षण किया था। उनकी ओर से निर्माण करने वाली कंपनी को इस कार्य को 15 दिन में मुकम्मल करने के आदेश दिए थे, ताकि एक जून तक आक्सीजन प्लांट चालू किया जा सके। एडीसी राहुल ने बताया कि प्लांट में रोजाना 500 लीटर प्रति मिनट आक्सीजन पैदा की जा सकेगी। इससे रोजाना 100 सिलेंडर आक्सीजन के भरे जा सकेंगे। निश्चित रूप में जिला गुरदासपुर के लिए बड़ी राहत की बात है, क्योंकि अस्पताल में आक्सीजन की कमी नही आएगी तथा जिस राशि से इस समय आक्सीजन खरीदनी पड़ रही है, उसकी भी बचत होगी। उन्होंने बताया कि इसी तरह का एक प्लांट बटाला में भी लगाने की योजना है।

25 मई तक प्लांट का काम मुकम्मल होने की उम्मीद

हालांकि एडीसी राहुल ने 25 मई तक प्लांट रखने के निर्माण कार्य को मुकम्मल करने के निर्देश दिए हैं। कंपनी के कर्मचारियों द्वारा प्लांट रखने के काम को शुरु भी कर दिया है। काम काफी तेजी से करने का प्रयास किया जा रहा है। अब पूरी उम्मीद है कि 25 मई तक प्लांट का काम मुकम्मल हो सकता है। वहीं एक जून तक आक्सीजन प्लांट मरीजों के सुपुर्द हो जाएगा। एसएमओ डा.चेतना का कहना है कि प्लांट लगने से मरीजों को काफी सुविधा मिलेगी। अस्पताल के सभी सौ बेडों पर आक्सीजन प्लांट की पाइपें बिछा दी गई है।

मरीजों की सुविधा के लिए किया जा रहा प्रयास

सिविल सर्जन डा. हरभजन राम मांडी का कहना है कि मरीजों की सुविधा के लिए सरकार द्वारा आक्सीजन प्लांट लगाकर दिया जा रहा है। इसी तरह का प्लांट बटाला के सिविल अस्पताल में भी लगाने की योजना है। कोरोना काल में आक्सीजन की बहुत जरुरत है। हालांकि जरुरत के हिसाब से उनके पास आक्सीजन है, लेकिन अस्पताल में प्लांट लगने से बहुत बड़ी सुविधा मिलने वाली है।