संवाद सहयोगी, गुरदासपुर : गांव उच्चा धकाला में पंचायती जमीन की बोली के दौरान महिला सरपंच को बेरहमी से पीटने का मामला और गर्मा गया है। मामले में नामजद चार लोगों को पकड़ने के लिए जहां पुलिस लगातार छामेमारी कर रही है। वहीं इस मामले में उस समय नया मोड़ आ गया जब आरोपित पक्ष के बिदा पुत्र गुरदयाल ने अपने बड़े भाई मुख्य आरोपित अमनदीप के कहने पर 26 का झूठा पर्चा बनाने की नीयत से रणजीत बाग निवासी एक आरएमपी डॉक्टर से किरच से चीरा लगवाया और बाद में सिविल अस्पताल गुरदासपुर में भर्ती हो गया। लेकिन वह अपनी इस चलाकी में कामयाब नहीं हो सका। उधर, सूचना मिलने पर पुलिस ने आरोपित को अस्पताल से गिरफ्तार करके दोरांगला थाना में हिरासत में लेकर जब सख्ती से पूछताछ की तो उसने स्वीकार किया कि उसने अपने बड़े भाई अमनदीप के कहने पर रणजीत बाग निवासी आरएमपी डॉक्टर लखविदर सिंह से अपनी बाजू पर चीरा लगवाया है। पुलिस ने आरएमपी डॉक्टर को भी उसके घर से उठाकर हिरासत में ले लिया है।

हालांकि अभी भी मुख्य आरोपित अमनदीप सहित तीन पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। काबिलेजिक्र है कि एक जुलाई को गांव उच्चा धकाला में सरकारी प्राइमरी स्कूल पंचायती जमीन की बोली के दौरान भाजपा वर्कर अमनदीप द्वारा अपने चार अन्य साथियों के साथ मिलकर कांग्रेस की महिला सरपंच शांति को बेहरमी से घसीट घसीट कर पीटा था। बीच बचाव में जब सरपंच का पति आया तो आरोपितों ने उसे भी जमीन में घसीटा। दंपती को बुरी तरह से पीटने के बाद हमलावर सरपंच के कानों से मारपीट दौरान नीचे गिरी सोने की बालियों को लेकर फरार हो गए। बोली के दौरान गांव की पंचायत, पंचायत सेक्रेटरी राजविदर कौर और जेई अविनाश भी मौजूद थे। इनके सामने ही सरपंच को बेरहमी से पीटा गया था। आरोपित अमनदीप ने सरपंच को जान से मारने की धमकियां भी दी थी। इस मामले में सरपंच ने थाना दोरांगला की पुलिस को शिकायत दर्ज करवाई थी। इसके बाद पुलिस ने अमनदीप पुत्र गुरदयाल, बिदा पुत्र गुरदयाल, यशपाल, गुरदयाल पुत्र माड़ू राम निवासी उच्चा धकाला के खिलाफ मामला दर्ज किया था। पुलिस द्वारा आरोपितों को पकड़ने के लिए यहां छामेमारी की जा रही थी। कट लगवाने के बाद अस्पताल में हो गया था भर्ती

एसएचओ मुख्तयार सिंह ने बताया कि दो दिन पहले उनको गुप्त सूचना मिली थी कि मुख्य आरोपित अमनदीप का भाई बिदा किसी आरएमपी डाक्टर से अपनी बाजू पर किरच लगाकर अस्पताल में भर्ती हो गया है। इसके बाद पुलिस ने अस्पताल में जाकर आरोपित को मौके से काबू कर लिया। जब आरोपित बिदा को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने स्वीकार किया कि उसने अपने बड़े भाई अमनदीप के कहने पर रणजीतबाग निवासी आरएमपी डाक्टर लखविदर सिंह पुत्र अमरजीत सिंह से अपनी बाजू पर किरच से कट लगाकर 26 का झूठा पर्चा बनाने का प्रयास किया है। आरोपित द्वारा दी सूचना के आधार पर गांव रणजीत बाग से डॉ. लखविदर सिंह को काबू करके हिरासत में लिया गया। आरोपित डॉक्टर के खिलाफ झूठा पर्चा बनाने की कोशिश करने के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपित अमनदीप के कहने पर डॉक्टर ने लगाया कट

एसएचओ मुख्तयार सिंह ने बताया कि आरोपित बिदा ने हिरासत में पूछताछ के दौरान स्वीकार किया है कि डॉक्टर लखविदर सिंह रणजीत बाग में एक मेडिकल स्टोर चलाता है। डॉक्टर उसके बड़े भाई अमनदीप का दोस्त है और उसके कहने पर ही डॉक्टर ने उसकी बाजू पर किरच से कट लगाया है। एसएचओ ने बताया कि आरोपित डॉक्टर लखविदर सिंह पुत्र अमरजीत सिंह निवासी रणजीत बाग के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। इनको अब अदालत में पेश कर रिमांड लिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!