सुभाष आनंद, फिरोजपुर : सिविल अस्पताल में सीटी स्कैन मशीन लगाने के लिए डाक्टरों और रेडक्रास अधिकारियों में खींचतान शुरू हो गई है। सिविल अस्पताल में चल रहे रेडक्रास के फिजियोथरेपी सेंटर को छोटी जगह शिफ्ट करने के लिए डाक्टर दबाव डाल रहे है। वहीं रेड क्रास फिजियोथरेपी सेंटर के मुलाजिम इस बात का विरोध कर रहे हैं। मुलाजिमों के मुताबिक अगर सेंटर बदलना ही है तो उनको उपयुक्त जगह दी जाए। सीटी स्कैन मशीन की पिछले लंबे समय से जरूरत महसूस की जा रही थी और सीटी स्कैन न होने कारण मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। सिविल अस्पताल में पहली बार पहुंच रही सीटी स्कैन मशीन को लेकर अस्पताल प्रशासन स्केनिग सेंटर बनाने जा रहा है। जिसके लिए रेड क्रास के फजियोथरेपी सेंटर की जगह को चुना गया है ।

अस्पताल के सीनियर मेडिकल आफिसर गुरमेज गुराया ने बताया कि अस्पताल को पहली सीटी स्कैन मशीन मिल रही है, जिसके लिए जगह कम है और इस जगह की मरम्मत भी बाकी है। इस वक्त फिजियोथरेपी सेंटर में रोजाना 25 मरीजों की ओपीडी है और पांच बेड की क्षमता के साथ शारीरिक व्यायाम के लिए सात अलग-अलग तरह की मशीनें लगी हुई है। फिजियोथैरेपी सेंटर को नहीं दी जी रही पर्याप्त जगह : सोनिका

रेड क्रास की फिजियोथेरेपिस्ट सोनिका व गुरजंट सिंह ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से सिविल अस्पताल के डाक्टर्स उनको सेंटर बदलने के लिए दबाव बना रहे है। बुधवार को भी उन्होंने सेंटर को शिफ्ट करने की बात की है, जो जगह फिजियोथरेपी सेंटर को देने की बात कर रहे है वहां एक बेड भी नहीं लगाया जा सकता। इस मामले को रेड क्रास अधिकारियों के समक्ष उठाया गया है।

कोट्स

रेड क्रास ने साल 2009 में सिविल अस्पताल की बेकार पड़ी जगह पर लाखों रुपए खर्च कर फिजियोथरेपी सेंटर बनाया। तत्कालीन डीसी रामवीर सिंह के प्रयासों से फिजियोथरेपी सेंटर को चलाया गया था। अब सिविल अस्पताल में सीटी स्केन मशीन आ रही है, जिस कारण रेड क्रास के फिजियोथैरेपी सेंटर अब रेड क्रास जीरा गेट के पास अपनी जगह पर शिफ्ट करेगा।

..अशोक बहल, सेक्रेटरी, जिला रेड क्रास सोसायटी

Edited By: Jagran