संवाद सहयोगी, फिरोजपुर : पंजाब में सात जिलों सहित फिरोजपुर में बस्ती टैंकों वाली के पुल पर रेल ट्रैक पर बैठे किसान मजदूरों का रेल रोको आंदोलन छठे दिन भी जारी रहा। प्रदर्शनकारियों की सार न लेने वाली पंजाब की चन्नी सरकार की बेरुखी का शिकार हो रहे किसान संगठनों के लोग भी जिद पर अड़े हैं ।

शनिवार के धरने को संबोधन करते हुए सूबा राज्य उपप्रधान जसबीर सिंह पिद्दी, जिला प्रधान इन्द्रजीत सिंह बाठ, धर्म सिंह सिद्धू और नरिंदरपाल सिंह जताला ने कहा कि चन्नी सरकार ने किसानों के दबाव में एक मांग तो मान ली है कि दिल्ली आंदोलन मे शहीद हुए किसानों के परिवारों को पांच पांच लाख का मुआवजा और नौकरी देन की प्रक्रिया शुरु कर दी गई है।

उन्होंने कहा कि बाकी मांगे रह गई हैं, जैसे बासमती का मुआवजा 17000 रुपए प्रति एकड़, तार पार की जमीनों वालों को 10 हजार रुपये मुआवजा, जो कि पिछले चार सालों से नही दिया गया।किसानों व मजदूरो का सरकारी और गैर सरकारी कर्ज माफ किया जाए,मजदूरो को पांच पांच मरले के प्लाट अलाट किए जाए। आंदोलनों के दौरान किसानों मजदूरों पर डाले गए केस रद्द किये जाएं, बिजली एझौता रद किए जाए। आज के धरने में आदर्श स्कूल हरदासा के अध्यापकों ने भी भाग लिया और मांग की है कि पिछले 11 सालों से वेतन में बिल्कुल भी विस्तार नहीं हुआ,केवल नाममात्र वेतन पर गुजारा करने पर गुजारा करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है उन्हे उनका हक दिया जाए।

इस मौके बलराज सिंह फेरोके, वरिन्दर सिंह, कृष्ण सिंह, वीर सिंह निजामुद्दीन वाला, गुरभेज सिंह, प्यारा सिंह, गुरजीत सिंह, जरनैल सिंह, बलविन्दर सिंह, लखविन्दर सिंह, सुखजीत कौर, सिमरजीत कौर, हरपिन्दर जीत कौर,पवन कुमार, हरसिमरन सिंह, कुलदीप कौर आदि ने भी संबोधित किया।

Edited By: Jagran