जागरण संवाददाता, ममदोट (फिरोजपुर) : गांव गजनीवाला में सतलुज दरिया में से रेत निकालने का टेंडर लेकर ठेकेदारों ने गांववालों की जमीन से ही रेत निकाल ली। ठेकेदार ने ग्रामीणों की जमीन से रेत निकाली तो पहले तो ग्रामीण चुप रहे, लेकिन जब वादे के मुताबिक उनको पैसे न मिले तो लोगों ने विरोध शुरू कर दिया।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि ठेका दरिया की सफाई का हुआ था लेकिन खनन किया जा रहा है। ग्रामीणों ने गांव के सरपंच पर भी ठेकेदार से मिलीभगत होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरपंच गुरमेज सिंह और उसके सहयोगी हरजिदर सिंह, बलविदर सिंह, जैल सिंह, मुख्तयार सिंह ग्रामीणों की जमीनों की जमाबंदी, अष्टाम पेपर ले गए और कहा कि सरकार रेत माइनिग की मंजूरी देने जा रही है। आप की जमीन से रेत उठाई जाएगी, जिसके बदले में सभी को पैसे दिए जाएंगे। गांव वासी महिदर सिंह ने आरोप लगाया कि ठेकेदार, सरपंच और उसके सहयोगियों ने जमीन से 150 ट्राले रेत उठा ली है लेकिन उनको अभी तक एक भी पैसा नहीं दिया और जब उन्होंने उक्त व्यक्तियों से पैसा मांगा तो उनसे मारपीट की गई। इसके बाद थाना लक्खोके बहिराम में आरोपितों पर शिकायत भी दर्ज करवाई गई, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। महिदर सिंह ने कहा अपनी जमीन से रेत नहीं उठाने देंगे। अगर रेत उठानी है तो सभी को पहले बनते पैसे दिए जाए। बाक्स

एसडीएम दफ्तर में जमा करवाए थे जमीन के कागजात

सरपंच गुरमेज सिंह ने कहा कि जमीनों की जमाबंदी और अष्टाम लेकर उन्होंने गुरुहरसहाय के एसडीएम आफिस में जमा कराए थे।

बाक्स

ग्रामीणों ने की सरकारी खड्ड की निशानदेही करवाने की मांग

गांव वासी टहल सिंह, सतनाम सिंह जग्गा सिंह और महिदर सिंह ने कहा रेत महंगे रेट में बेची जा रही है। ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री भगवंत मान, डिप्टी कमिश्नर फिरोजपुर और हलका विधायक फौजा सिंह सरारी इस खड्ड की निशानदेही करवाने की मांग की है।

बाक्स

शिकायत की होगी जांच: एसडीओ

माइनिग विभाग के एसडीओ परमिदर सिंह धालीवाल ने कहा कि सतलुज दरिया की सफाई और माइनिग का ठेका हुआ है। ग्रामीणों की शिकायत की वे जांच करेंगे।

Edited By: Jagran