संवाद सहयोगी, फिरोजपुर : आठ माह पहले फिरोजपुर शहर की बेदी कालोनी में ब्याही नवविवाहिता को पति ने मामा-मामी के साथ मिलकर मौत के घाट उतारने का प्रयास किया। मकान बनाने के लिए मायके से ढाई लाख रुपये न लाने पर पति विवाहित के पिता के सामने ही उसका दुप्पटे से गला घोंट रहा था और पति के मामा मामी ने अबला के मुंह में जहर डाल दिया। मौत की कगार पर पहुंची नवविवाहिता के पिता ने उसे पहले सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया, जहां से उसे मोगा के एक निजी अस्पताल में रेफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। थाना सिटी पुलिस ने विवाहिता के पति व पति के मामा-मामी पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है।

पीड़िता रमनदीप कौर के पिता जसवीर सिंह निवासी वीर नगर ने बताया कि वह ट्रक ड्राइवरी के साथ साथ मेहनत मजदूरी भी करता है और उसकी दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी की शादी डेढ़ साल पहले ही की थी और आठ माह पहले छोटी बेटी रमनदीप कौर की शादी शहर की बेदी कालोनी के रहने वाले अमृतपाल सिंह के साथ की थी। बेटी के ससुर शाम सिंह की मौत के बाद उनका दामाद अपने मामा मामी के पास रह रहा है। उसका दामाद अपने मामा मामी घर के पास ही एक मकान बना रहा है और उसे पूरा करने के लिए रमनदीप से मायके से ढाई लाख रुपये लाने की मांग पिछले पांच दिनों से करता आ रहा था। पैसे लाने की मांग बेटी ने जब मुझे बताई तो वह अपने पारिवारिक सदस्यों के साथ 10 जुलाई बेटी के ससुराल पहुंच गया, जहां दामाद ने फिर पैसें देने की मांग की, जिसे पैसे देने से मना कर दिया।

शिकायतकर्ता ने बताया कि इसी बात पर दामाद ने उसके सामने ही रमनदीप की मामा-मामी के साथ मिलकर पिटाई शुरू कर दी। इसी दौरान अमृतपाल ने रमनदीप कौर के गले में दुप्पटा डाल कर गला घोंटना शुरू और मुंह खुला देखकर मामा मामी ने उसके मुंह में जहर डाल दिया, जिससे रमनदीप कौर की हालत बिगड़ने लगी, जिसे वह सिविल अस्पताल लाए, जहां से उसे मोगा के एक निजी अस्पताल में रेफर कर दिया गया । मंगलवार शाम तक रमनदीप की हालत नाजुक थी। आरोपित हुए फरार

मामले के जांच अधिकारी बलदेव सिंह ने कहा कि बयानों के आधार पर रमनदीप कौर के पति अमृतपाल सिंह, मामा साहिब सिंह और मामी के खिलाफ पर्चा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है और आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी की जा रही है । फिलहाल वे अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

Edited By: Jagran