जागरण संवाददाता, फिरोजपुर

पंजाब का माहौल खराब करने के लिए कुछ शरारती तत्वों द्वारा शहर के आरएसडी कॉलेज की दीवार पर खालिस्तान समर्थित नारे लिखे गए। इन नारों पर पुलिस असमंजस में है कि यह किसी की साजिश है या फिर किसी ने शरारत की है। घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस इसे लिखने वालों का पता नहीं लगा पाई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार श्री गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी को लेकर मक्खू के हरीके पत्तन पर पक्के तौर पर धरना दिया जा रहा है। उस दौरान भी कुछ लोगों द्वारा पुल के ऊपर खालिस्तान का नारा लिखा गया और झंडा लगाया गया था। अब शरारती तत्वों ने फिर फिरोजपुर के आरएसडी कॉलेज की दीवार पर खालिस्तान समर्थित नारे लिखकर माहौल गर्म कर दिया है। लोगों का कहना है कि 1984 से पहले इस तरह की छोटी-छोटी घटनाएं होनी शुरू हुई थीं। बाद में भयानक रूप धारण कर लिया था, इसलिए लोग दीवारों पर लिखे नारे देख भयभीत हो रहे है। परंतु पुलिस इस मामले को हलके में ले रही है और कालेज की दीवार पर नारों को लिखने वालों का घटना के तीन दिन बाद भी पता नहीं लगा पाई है।

थाना सिटी फिरोजपुर के प्रभारी सत¨वदर ¨सह का कहना है कि कालेज की दीवार पर लिखे गए नारे के संबंध में अभी तक कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है, परंतु जांच की जा रही है कि कॉलेज पर खालिस्तान समर्थित नारे किसने लिखे। पुलिस द्वारा इस मामले की गहराई से जांच की जा रही है।

------------------

अधिकारी नहीं मानते बड़ी बात

पुलिस विभाग के डीआइजी रैंक के अधिकारी ने बताया कि दीवार पर खालिस्तान के नारे लिखने व पोस्टर चिपकाने को गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए। यह कुछ शरारती लोगों की एक साजिश होती है, जिससे पुलिस व समाज का ध्यान भटके और ऐसे लोग अपनी मंशा में सफल हो सकें। उन्होंने फिलहाल अगर कहीं से जांच अधिकारी को कुछ क्लू मिलेगा तो वह जरूर कार्रवाई करेगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!