जासं, फिरोजपुर : पंचायत चुनाव के उम्मीदवारों के नामांकन की जांच के दिन सोमवार शाम को जिले में नया राजनीतिक घटनाक्रम हुआ। युवका कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव गुरभेज ¨सह टिब्बी, उनके भाई एवं एनएसयूआइ प्रदेश महासचिव हरपाल ¨सह का नामांकन खारिज हो गया। इससे उनके चचेरे भाई सुखदेव ¨सह ने तैश में आकर एडीसी (जनरल) के सामने पिस्तौल निकालने के आरोप में पकड़ लिया गया। पिस्तौल निकालने की पुष्टि निर्वाचन अधिकारी कम एडीसी गुरमीत ¨सह मुल्तानी ने की है। सोमवार शाम करीब चार बजे हुए इस घटनाक्रम के बाद टिब्बी समर्थकों के बीच रोष पनप गया। छप्पड़ की जमीन पर कब्जा करने की शिकायत के आधार पर रातोंरात हुई जांच के आधार पर मुख्य प्रत्यशी गुरभेज ¨सह टिब्बी व इनके कव¨रग प्रत्याशी हरपाल ¨सह का जोन नंबर पांच से नामांकन खारिज किया गया। यहां से टिकट न मिलने पर बागी होकर निर्दलीय के तौर पर चुनाव नामांकन दाखिल करने वाले और खेल मंत्री राणा गुरमीत ¨सह सोढ़ी के पीए नसीब ¨सह संधू अब कांग्रेस प्रत्याशी होंगे।

गांव के छप्पड़ की जमीन पर कब्जा करने का लगाया था आरोप

एडीसी गुरमीत सिंह मुल्तानी के अनुसार नसीब ¨सह ने शिकायत की थी कि गुरभेज ¨सह टिब्बी व कुछ अन्य लोगों ने गांव में छप्पड़ की तीन एकड़ जमीन पर कब्जा किया हुआ। तब इसकी हलका पटवारी और कानूनगो से जांच करवाई गई तो कब्जा होना पया गया। जिस मकान को छप्पड़ की जमीन पर कब्जा कर बनाया गया है। उसकी में गुरभेज ¨सह की वोट बनी हुई थी। इस जमीन को कब्जा मुक्त करवाने के लिए डीडीपीओ की ओर से भी ऑर्डर पास किया गया है। एडीसी के अनुसार जब उन्होंने जांच रिपोर्ट के आधार पर नामांकन खारिज किए तो एक व्यक्ति ने पिस्तौल निकाल लिया। जिसे पुलिस ने पकड़ लिया।

------------

राजनीतिक शह से नामांकन खारिज करवाने व फंसाने का आरोप, राणा के निवास पर पहुंचकर किया विरोध

युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव गुरभेज ¨सह के अनुसार उनका नामांकन राजनीतिक साजिश के तहत खारिज करवाया गया है। वे एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखे हैं। गुरभेज ¨सह के अनुसार झूठी रिपोर्ट के आधार पर उनका नामांकन खारिज किया गया। ताकि वे राजनीति में आगे नहीं बढ़ सके। गुरभेज ¨सह ने समर्थकों के साथ मंत्री राणा गुरमीत ¨सह सोढ़ी की कोठी पहुंच कर भी विरोध जताया। गुरभेज ¨सह का आरोप था कि कांग्रेस ने उन्हें टिकट दी थी। नसीब ¨सह ने स्कै¨नग से दूसरी टिकट तैयार की गई। पार्टी द्वारा उम्मीदवार बदलने की एक प्रक्रिया होती है। उसे भी पूरा नहीं किया गया है। उसे चुनाव मैदान से हटाने के लिए नामांकन खारिज कर दिया गया। चचेरे भाई से पिस्तौल बरामद होने के सवाल पर गुरभेज ¨सह का कहना था कि मेरे पास कोई गनमैन नहीं है। मैं पार्टी का राष्ट्रीय सचिव हूं। खतरा भांपते हुए मेरा चचेरा भाई अपना लाइसेंसी हथियार लेकर साथ आया था। उसने पिस्तौल नहीं निकाला। पुलिस ने जानबूझ कर फंसा दिया। प्रतिक्रिया जानने के लिए नसीब ¨सह से भी टेलीफोनिक संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने कॉल अटेंड नहीं की।

वर्जन:

शिकायत के आधार पर निर्वाचन आयोग ने गुरभेज सिंह का नामांकन खारिज किया है। अब पार्टी ने अधिकृत तौर पर नसीब ¨सह को प्रत्याशी बनाया है। वे भी पार्टी के वर्कर हैं। गुरभेज ¨सह भी सीनियर हैं। पार्टी उन्हें कहीं और एडजस्ट करेगी।

हीरा सोढ़ी पुत्र राणा गुरमीत ¨सह सोढ़ी, खेल मंत्री।

------------

डीसी कार्यालय में नामांकनों की जांच के दौरान एक व्यक्ति को पिस्तौल सहित पुलिस कर्मियों ने पकड़ा था। जांच की जा रही है। इसके बाद ही स्पष्ट कर सकूंगा कि मामला क्या हैं। अभी तक प्रशासन की ओर से कोई शिकायत नहीं मिली है।

अमनदीप ¨सह, एसएचओ, थाना कैंट, फिरोजपुर।

Posted By: Jagran