संवाद सूत्र, मल्लांवाला (फिरोजपुर) : बिजली संबंधी मामलों को लेकर किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब के नेतृत्व में किसानों का प्रतिनिधिमंडल शनिवार को पावरकाम के डिप्टी चीफ दमनजीत सिंह तूर को मिला और बिजली संशोधन बिल 2020 रद करने की मांग की।

इस दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष जसबीर सिंह बोनी, जिला प्रधान इंद्रजीत सिंह बाठ, धर्म सिंह सिद्धू, बलजिंदर सिंह, तलवंडी निपाला, नरिंदरपाल सिंह जताला और बलविंदर सिंह लोहके व जलालाबाद, जीरा, फिरोजपुर डिवीजन के एक्सियन भी मौजूद थे। किसान नेताओं ने मांग की कि पंजाब में सबसे महंगी बिजली देने का कारण बिजली कंपनियों के साथ किए समझौते रद्द किए जाएं, केंद्र सरकार की तरफ से पार्लियामेंट में पेश किया जा रहा बिजली संशोधन बिल 2020 वापस लिया जाए, घरेलू बिजली एक रुपये यूनिट की जाए, किसानों, मजदूरों के बिजली के बिल बकाए माफ किए जाएं। इस मौके पर गुरबख्श सिंह पंजगराईं, फुम्मन सिंह, खिलारा सिंह पन्नू, गुरमेल सिंह, हरफूल सिंह, बचित्तर सिंह, बलराज सिंह, सुरजीत सिंह, बूटा सिंह, मंगल सिंह,साहब सिंह, गुरभेज सिंह, संदीप सिंह, इंद्रजीत सिंह आदि नेता मौजूद थे।

हल्ला बोल रैली की तैयारियों पर किया विमर्श संवाद सहयोगी, फिरोजपुर : पंजाब यूटी मुलाजिम व पेंशनर संयुक्त फ्रंट की ओर से 29 जुलाई को पटियाला में की जा रही हल्ला बोल महारैली की तैयारियों को लेकर बैठक जिला परिषद् कांप्लेक्स फिरोजपुर में हरभगवान कंबोज जिला प्रधान, जिला परिषद् पंचायत समीति पेंशनर एसोसिएशन की प्रधानगी में हुई।

कृष्ण चंद जागोवालिया जिला प्रधान पससफ ने बताया कि कांग्रेस पार्टी ने सता में आने के लिए विधानसभा चुनाव 2017 के चुनाव में मुलाजिमों व पेंशनरों से किए वादें पूरे नहीं किए है, जबकि उनसे सुविधाएं छीनकर उन्हें संघर्ष करने के लिए मजबूर कर दिया है। उन्होंने सभी कर्मचारियों व पेंशनरों को हल्ला बोल रैली में शामिल होने की अपील की।

Edited By: Jagran