अमनदीप सिंह, फिरोजपुर : स्वतंत्रता दिवस पर शनिवार को फिरोजपुर के डिवीजनल कमिश्नर सुमेर सिंह गुर्जर ने शहीद भगत सिंह स्टेडियम में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। कार्यक्रम में डिवीजनल कमिश्नर हुसैनीवाला स्थित शहीदी स्मारक पर पहुंचकर शहीद भगत सिंह, राजगुरु व सुखदेव को पुष्पांजलि अर्पित की। उनके साथ विधायक सतकार कौर, डिप्टी कमिश्नर गुरपाल सिंह चाहल और एसएसपी भूपिदर सिंह मौजूद रहे।

गुर्जर ने कहा कि आज हम इन शहीदों की बदौलत ही आजाद फिजा में सांस ले रहे हैं और देश कभी भी हमारे शहीदों का ऋण नहीं चुका सकता। उन्होंने लोगों से कोरोना वायरस पर जीत हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह की तरफ से शुरू किए गए मिशन फतेह को सफल बनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से इस महामारी पर विजय हासिल करने के लिए विस्तृत रणनीति बनाई गई है। इसके तहत पटियाला, फरीदकोट और अमृतसर मेडीकल कॉलेजों में प्लाजमा बैंक स्थापित किए गए हैं। इस बीमारी से ठीक होने वाले लोगों को अपना प्लाजमा दान करने का आह्वान किया। पीजीआइ सैटेलाइट सेंटर के लिए राज्य सरकार ने सारी कार्रवाई मुकम्मल कर ली है। 27 एकड़ जमीन भी पीजीआइ मैनेजमेंट को ट्रांसफर कर दी है। इस पर जल्द ही पीजीआइ सेंटर का निर्माण शुरू होगा। इस मौके पर जिला व सत्र न्यायधीश परमिदरपाल सिंह, एडीसी राजदीप कौर, एसडीएम अमित गुप्ता, डीएसपी करणशेर सिंह समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

कैप्टन सरकार की उपलब्ध गिनाई

गुर्जर ने कैप्टन सरकार की वायदे पूरे करने की बात रखते हुए उपलब्धियां भी गिनाई। 12वीं कक्षा के सभी विद्यार्थियों को स्मार्ट फोन देने की बात कही। नशों के खिलाफ स्पेशल टास्क फोर्स का गठन किए जाने का जिक्र किया। एनडीपीएस एक्ट के तहत 38,216 मुकदमे दर्ज किए और 48,273 आरोपितों की गिरफ्तारी हुई।

---------

पेंशन बढ़ाकर 750 रुपये की गई

सामाजिक सुरक्षा के तहत पेंशन को बढ़ाकर 750 रुपए की गई है। फिरोजपुर जिले में ही 11 हजार 714 लोगों को रोजगार दिलाया और 13 हजार 43 लोगों को स्व:रोजगार के क्षेत्र में मदद की गई है। 24 से 30 सितंबर तक लगने वाले रोजगार मेलों में फिरोजपुर में 2 हजार युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है। 5 लाख से ज्यादा किसानों का 4700 करोड़ का कर्ज भी माफ हुआ है। चर्चाएं हुई सम्मान लेने वाले अधिकतर डिफाल्टर

बताया जाता है कि शहीद भगत सिंह स्टेडियम में आयोजन के दौरान न सभ्यचारक कार्यक्रम हुआ और न ही शहीदों के वारिसों को सम्मान मिला। बहुत से लोगों को सम्मान दिया जाना टाल दिया गया, लेकिन सारे समागम में एक कांग्रेसी नेता के चहेते सम्मान लेने से पीछे नहीं हटे। 35 चहेते लोगों की लिस्ट थमा दी गई और उन्हें डिविजनल कमिश्नर से सम्मानित करवाया गया। इसमें कई तो डिफाल्टर बताए जा रहे हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!