संवाद सहयोगी, अबोहर : एलआरएस डीएवी सीसे मॉडल स्कूल में पवन गुरु, पानी पिता, माता धरती विषय के तहत प्रतियोगिताएं करवाई गई। विद्यार्थियों ने धरती, हवा, पानी व अन्य प्राकृतिक स्त्रोतों को बचाने का भी संकल्प लिया।

लेखन प्रतियोगिता में सेकंडरी व सीनियर सेकेंडरी कक्षाओं के विद्यार्थियों ने अत्यंत उत्साह के साथ भाग लिया। विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए प्रिसिपल स्मिता शर्मा ने कहा प्रकृति ईश्वर की अनुपम भेंट है। प्रकृति सदैव मानव को देती ही रही है। मनुष्य ने भी प्राचीन काल से ही सदैव प्रकृति की पूजा की है। प्रकृति हमें अपने प्राकृतिक संसाधनों जैसे मिट्टी, हवा, पानी, कोयला, सौर ऊर्जा, वायु ऊर्जा, आदि प्रदान करती है।

स्वच्छ जल भी प्रकृति की अमूल्य देन है, किन्तु मानव ने अपने स्वार्थवश प्रकृति की इस भेंट को प्रदूषित कर दिया है। प्राकृतिक संसाधनों में इसी कारण लगातार कमी आती जा रही है। आज मनुष्य के लिए आवश्यक है कि वह प्रकृति के महत्व को जाने और जागरूक हो कर अपना अपना योगदान देकर प्रकृति की रक्षा करे, जिससे आने वाली पीढि़यां भी प्रकृति के वरदान का आनंद ले सकें।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!