संवाद सहयोगी, अबोहर : अजंप्शन कान्वेंट स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों ने रविवार को नेहरू पार्क में बैठक की व स्कूल की ओर से नाजायज फीसें मांगने पर कड़ा ऐतराज जताया व इसकी शिकायत जिला शिक्षा अधिकारी को भेजी है।

नेहरू पार्क में एकत्रित अभिभावक बलजिदर सिंह, राजविदर सिंह, वरिदरपाल, अमरीश कुमार, अनिल कुमार, अरविद, रघुबीर सिंह, नरोतम सिंह, कुलविदर सिंह समेत अनेक अभिभावकों ने बताया कि स्कूल की ओर से कोरोना काल में सेशन 2021-22 के लिए आनलाइन कक्षाओं की ट्यूशन फीस मांगी जा रही है, जो कि शिक्षा विभाग व पंजाब सरकार के नियमों के खिलाफ हैं। उनका कहना है कि पिछले वर्ष माननीय हाइकोर्ट का फैसला भी आया हुआ था कि जब तक कोविड-19 चल रहा है व जब तक तक बच्चों को आनलाइन कक्षाएं दी जा रही है तब तक स्कूल ट्यूशन फीस ही वसूल करेगा। लेकिन इसके बावजूद स्कूल द्वारा बिल्डिग फंड, वार्षिक खर्चें व कई अन्य फालतू चार्जेज की मांग भी की जा रही है। इस संबंध में कुछ अभिभावक दो बार प्रिसिपल से मिल चुके हैं लेकिन वह हर बार टाल मटोल कर उन्हें वापस भेज देते हैं। जिला शिक्षा अधिकारी को भेजी शिकायत में मांग की गई है कि स्कूल प्रिसिपल को इस बारे हिदायत की जाए व उनकी समस्या का हल करवाया जाए। अभिभावकों ने चेतावनी भी दी है कि अगर उनकी समस्या का हल यहां न निकला तो अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।

450 लोगों ने लगवाई वैक्सीन संस, अबोहर : सरकारी कन्या सीसे स्कूल में रविवार को भी स्वास्थ्य विभाग ने कैंप लगाकर करीब 450 लोगों को कोविडशील की दूसरी डोज लगाई। इस दौरान लोगों की काफी भीड़ रही। एसएमओ डा. गगनदीप सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर गर्भवती महिलाओं व दूध पिलाने वाली महिलाओं को भी वैकसीन लगानी शुरू कर दी गई है।

उन्होंने बताया कि फिलहाल कोविडशील व कोवैक्सीन की दूसरी डोज लगाई जा रही है, ताकि पहली डोज लगवा चुके लोगों को कवर किया जा सके। उधर बाहर जाने, स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों जिन्होंने अभी पहली डोज लगवानी है को पहली डोज लगवाने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई लोगों की दूसरी डोज की रजिस्ट्रेशन भी नहीं हो पा रही है। गौरतलब है कि सरकार स्कूल कॉलेज खोल दिए है व इसके लिए वैक्सीन लगवाना जरुरी करार दिया है लेकिन वैकसीन न लगने की वजह से वह पशोपेश है कि आखिर क्या करें। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से इसका प्रबंध करने की अपील की है।

Edited By: Jagran