संवाद सहयोगी, फाजिल्का : जब कोई त्योहार आता है तो कुछ लोग अपने निजी लाभ के लिए लोगों की जिदगी के साथ खिलवाड़ करने से बाज नहीं आते। अब दीवाली नजदीक होने पर फाजिल्का में मिठाइयां धड़ाधड़ तैयार की जा रही हैं। सेहत विभाग भी लगातार जिले में सैंपलिग व खराब मिठाइयों को नष्ट कर रहा है। लेकिन कहीं न कहीं लोगों को मिठाइयों के बारे में जागरूक होने की जरूरत है।

सिविल सर्जन डॉ. दलेर मुल्तानी ने कहा कि सेहत विभाग की ओर से लगातार मिठाई वाली दुकानों की चेकिग की जा रही है। जहां भी खराब मिठाइयां मिलती हैं, उन्हें नष्ट किया जाता है। जिले में रंगदार मिठाइयां नहीं बिकने दी जाएगी।,क्योंकि रंगदार मिठाइयां कई तरह की बीमारियों का कारण बनती है। उन्होंने लोगों से भी अपील की कि वह साफ सुथरी मिठाईयां खरीदें और खासतौर पर रंगदार मिठाईयों से दूर रहे। बड़े या छोटे दुकानदार की सैंपलिग संबंधी उन्होंने कहा कि सेहत विभाग की टीम यह कभी नहीं देखती कि दुकान बड़ी है या छोटी। विभाग की टीम द्वारा लगातार सैंपलिग की जा रही है, जो आगे भी जारी रहेगी।

दो क्विंटल 16 किलो घी किया जा चुका है सीज

फूड सेफ्टी कमिश्नर कमलप्रीत सिंह बराड़ ने बताया कि अब तक जिले में दो क्विटल 16 किलो घी को सीज किया जा चुका है। इसके लिए कुल पांच सैंपल भी लिए गए हैं। जिले की विभिन्न दुकानों पर जाकर 65 किलो के करीब वह मिठाईयां नष्ट करवाई हैं, जो खाने योग्य नहीं थी। उन्होंने कहा कि टीम द्वारा सैंपलिग आगे भी जारी रहेगी। वहीं फूड इंस्पेक्टर गगनदीप ने बताया कि सोमवार को एक दुकान से मिठाई के दो सैंपल लिए गए हैं, जिनमें रसगुल्ला व बर्फी शामिल हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!