संवाद सहयोगी, अबोहर : सुखचैन माइनर में नहरी पानी की कमी को लेकर रविवार को चार गांवों के किसानों ने अबोहर-सीतो रोड पर जाम लगा प्रदर्शन किया। किसानों ने कहा कि जब तक माइनर में पूरा पानी नहीं छोड़ा जाता तब तक उनका धरना जारी रहेगा।

सुखचैन माइनर के अधीन आते गांव दुतारांवाली, सुखचैन, खैरपुरा इत्यादि के किसानों संदीप, पटेल थापन, सचदेव बागड़िया, संदीप थापन, संजय डेलू, सुभाष, अनिल भादू, अनुपम थापन व संत राम इत्यादि ने बताया कि 20 दिन पहले नहर की सफाई को लेकर नहरबंदी की गई थी, लेकिन इसके बावजूद नहर की सफाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि नहर की सफाई न होने के कारण उन्हें पूरा पानी नहीं मिल रहा, जिस कारण उनकी फसल की बिजाई प्रभावित होती है। उन्होंने बताया अब नहर में आधा पानी सप्लाई हो रहा है, जिस कारण उनकी सरसों की बिजाई प्रभावित हो रही है।

किसानों ने बताया कि उन्हें सूत्रों से पता चला है कि विभाग फिर से नहर बंदी करने जा रहा है। किसानों के धरने के कारण सड़क से गुजरने वाले वाहनों को दूसरे रास्तों से ही जाने को मजबूर होना पड़ा । प्रवीण बागडिया ने बताया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती तब तक उनका धरना जारी रहेगा। किसान बोले-विधायक ने की थी माइनर गोद लेने की घोषणा, नहीं ली सुध

किसानों ने बताया कि करीब साढ़े चार साल पहले जब पानी की मांग को लेकर धरना लगाया था तो तब बल्लुआना के विधायक नत्थू राम ने उनके धरने में पहुंच कर यह भरोसा दिया था कि उन्हें नहरी पानी की कमी नहीं आने दी जाएगी व वह इस माइनर को गोद लेते हैं लेकिन उसने बाद उन्होंने कभी आकर उनकी सुध नहीं ली। उधर, नहरी विभाग के एसडीओ बलविदर सिंह ने शाम साढ़े छह बजे धरनास्थल पर पहुंच किसानों को समस्या के समाधान का आश्वासन दिया, जिसके बाद धरना हटाया गया।

Edited By: Jagran