संवाद सूत्र, जलालाबाद (फाजिल्का) : आम आदमी पार्टी ने लॉकडाउन के दौरान निजी स्कूली बच्चों की फीसों व बिजली के बिल लेने के फैसले का विरोध किया है। इसके चलते शहर में पुरानी सब्जी मंडी और डॉ. भीम राव आंबेडकर चौक में रोष धरना दिया। इस दौरान स्कूलों की फीसों लेने, बिजली बिल वसूलने के बारे, महामारी के दौरान सरकार की तरफ से बांटे गए राशन को लेकर पक्षपात करने के बारे वर्करों ने हाथों में तख्तियां पकड़कर रोष जताया।

आप के हलका इंचार्ज महेंदर सिंह कचूरा ने कहा कि आम व मध्यमवर्गीय लोग और दुकानदार लॉकडाउन में वह प्राइवेट स्कूलों में पढ़ते बच्चों की फीसें देने और बिजली के बिल भरने से असमर्थ हैं। क्योंकि महामारी के चलते 22 मार्च 2020 से लगातार लॉकडाउन और क‌र्फ्यू लगा होने के कारण सभी काम बंद होकर रह गए हैं और हलात ऐसे बने हुए हैं कि हर वर्ग को अपने घर परिवार चलाने के लिए मुसीबतें खड़ी हो गई हैं और सरकार ने लोगों की आर्थिक तौर पर मदद करने की बजाय लोक विरोधी फैसले लेकर शोषण किया जा रहा है। हाल ही में पंजाब सरकार द्वारा बिजली के बिल भेज दिए गए हैं, वहीं निजी स्कूलों को बच्चों की फीसें वसूलने की भी छूट दे दी गई है। आप नेता महिद्र कचूरा ने कहा कि सरकार अपने नादिरशाही फैसले को तुरंत वापस ले। धरने के दौरान नेताओं ने चेतावनी दी कि सरकार लोक विरोधी फैसले तुरंत रद किए जाए। इस मौके सुरजन सिंह, शहरी ब्लाक प्रधान राजू सरकार, ब्लाक प्रधान दिलबाग सिंह, डॉ. सुरिंदर कचूरा, नरेश घुबाया, डॉ. रजिंदर, नरिंदरजीत चहल, परमजीत खालसा, यशवंत, चिमन हजारा, सुरिंदर, जोगिंद्र व अन्य उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!