धरमिदर सिंह फतेहगढ़ साहिब,

सरहिद के तकरीबन सभी बाजार अवैध कब्जों से अटे हैं। इस कारण लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इन बाजारों में बदकिस्मती से कहीं आगजनी की घटना हुई तो तबाही मच जाएगी। क्योंकि, अवैध कब्जों की वजह से यहां से दमकल गाड़ी तो दूर दोपहिया वाहनों का निकलना भी मुश्किल है।

सुबह अपनी दुकाने खोलने के साथ ही दुकानदार अपना सामान तीन से पांच फीट तक बाहर सजा लेते हैं। 90 फीसदी दुकानदारों ने दुकानों के बाहर डेढ़ से दो फीट तक पक्के थड़े बना रखे हैं। सरहिद मंडी के मुख्य बाजार में अवैध कब्जों की भरमार से राहगीरों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इन अवैध कब्जों के खिलाफ कभी भी ठोस कार्रवाई नहीं हुई। हालांकि, पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट की तरफ से सख्त आदेश हैं कि अवैध कब्जों के खिलाफ हर हालत में एक्शन लिया जाए। लेकिन जिला प्रशासन इस तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहा है। प्रशासन की लापरवाही से लगता है कि वह किसी बड़े हादसे के इंतजार में हैं। ईओ हैं कि मानते नहीं

नगर कौंसिल के ईओ की रवैया यह है कि वे मानते ही नहीं हैं। अवैध कब्जे हटाने के लिए नगर कौंसिल अध्यक्ष शेरसिंह कई बार ईओ को मौखिक और लिखित तौर पर भी कह चुके हैं। यही नहीं, एसडीएम फतेहगढ़ साहिब भी ईओ को पत्र भेजकर कब्जे हटाने की हिदायत कर चुके हैं। न जाने क्यों ईओ की तरफ से कार्रवाई नहीं की जा रही। इस संबंध में ईओ गुरपाल सिंह से बातचीत के लिए कई बार फोन किया गया। लेकिन उन्होंने काल पिक ही नहीं की। मुद्दा जनहित का, लेकिन हो रही सियासत : शेर सिंह

नगर कौंसिल अध्यक्ष शेर सिंह ने कहा कि जनहित के इस मुद्दे पर वे कई बार पत्र लिख चुके हैं। लेकिन वे अकाली दल से संबंधित हैं। इस लिए कोई अधिकारी उनके पत्र पर कार्रवाई नहीं कर रहा है। अब वे दोबारा नई डीसी से मिलकर इस मुद्दे को उठाएंगे और लोगों की समस्याओं का हल किया जाएगा। प्रशासन की मिलीभगत से हो रहे कब्जे - धारनी

वरिष्ठ एडवोकेट अमरदीप सिंह धारनी ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेशों के बावजूद प्रशासन अवैध कब्जे नहीं हटा रहा है। कब्जाधारियों के हौसले बुलंद हैं। इससे एक बात तो जाहिर हो चुकी है कि प्रशासन की मिलीभगत से ही कब्जे हो रहे हैं। सियासी दबाव में कोई भी अधिकारी कार्रवाई नहीं कर रहा।

सख्ती से निपटेंगे : एसडीएम

एसडीएम फतेहगढ़ साहिब डा. संजीव कुमार ने कहा कि ईओ को पत्र लिखकर कार्रवाई की हिदायत दी थी। लेकिन इन दिनों अधिकारियों की ड्यूटी सुल्तानपुर लोधी में लगी हैं। 12 नवंबर के बाद अवैध कब्जाधारियों से सख्ती से निपटा जाएगा। किसी को भी अवैध कब्जा करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!