चंडीगढ़, [वैभव शर्मा।] कोरोना वायरस के चलते जहां शहर में कर्फ्यू लगाया गया है, वहीं कर्फ्यू में भी मुनाफाखोर लोगों की जेबों पर डाका मारने से बाज नहीं आ रहे हैं। यह मुनाफाखोर रात के समय सड़कों पर गैर कानूनी तरीके से सब्जियांं बचे रहे हैं। प्रशासन द्वारा सब्जियां बेचने के लिए कुछ ही लोगों को परमिशन दी है। उसके अलावा सीटीयू की बसों में भी सब्जी की सप्लाई हो रही है। लेकिन रात के समय यह लोग सब्जियों की कालाबाजारी का गोरखधंधा कर रहे हैं। मनीमाजरा में रात के समय सरेआम महंगी सब्जियां बेची जा रही हैं और इसे रोकने में पुलिस व प्रशासन नाकामयाब साबित हो रहे हैं।

वसूले जा रहे मनमाने दाम

आलू, गोभी, प्याज, टमाटर आदि सब्जियों की इस समय जमकर कालाबाजारी हो रही है। यह मुनाफाखोर लोगों की मदद करने के नाम पर अपनी जेब भर रहे हैं। लोगों से इन सब्जियों के मनचाहे दाम वसूले जा रहे हैं और लोग भी मजबूरी में इन सब्जियों को खरीद रहे हैं।

नहीं है किसी का डर

वीरवार रात करीब 8:30 बजे मनीमाजरा अंडर ब्रिज के पास बने शीतला माता मंदिर के सामने गैर कानूनी तरीके से ऑटो खड़ा कर सब्जियों को बेचा जा रहा था। इसमें गौर करने वाली बात यह है कि कई पुलिस के मुलाजिम भी यहां से सब्जियां लेकर तो जा रहे थे लेकिन किसी ने भी उसे सब्जी बेचने की परमिशन कहां से मिली है।

सोशल डिस्टेंस की उड़ाई धज्जियां

जहां एक ओर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों से अपने घरों में रहने की अपील कर रहे हैं। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने की बात बोल रहे हैं, वही रात के समय बेची जा रही सब्जियों के दौरान सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। लोग न तो एक दूसरे से दूर खड़े हैं और ना ही उन्हें कोरोना वायरस का कोई डर सता रहा है।

सब्जियों के दाम 40 से 60 रुपये तक

रात के समय बेची जा रही इन सब्जियों के दाम 40 रुपए से शुरू होकर 50 से 60 रुपए तक जा रहे हैं। जब इस मुनाफाखोरी से पूछा गया कि उसके पास सब्जी बेचने की परमिशन है तो उसने कहा कि उसे पीसीआर ने कहा है कि वह यहां पर सब्जी बेच सकता है। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Satpaul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!