जागरण संवाददाता, मोहाली। मोहाली व्यापारियों शहर में बने बूथों के ऊपर फर्स्ट फ्लोर बनाने की डिमांड रखी है। व्यापारियों ने प्रशासन व ग्रेटर मोहाली एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (गमाडा) से पंचकूला की तर्ज पर फर्स्ट फ्लोर बनाने की अनुमति मांगी है। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने बीते दिनों शहर के बूथ पर फर्स्ट फ्लोर बनाने की अनुमति दिए जाने की बात कही थी। इसके लिए गमाडा की ओर से पॉलिसी तैयार की जा रही है।

बूथ मालिकों की मांग है कि गमाडा जो पॉलिसी बनाए वे बेहतर हो न की फर्स्ट फ्लोर पर एक स्टोर बनाने की अनुमति देकर लालीपाप दें। बूथ के ऊपर फर्स्ट फ्लोर बनाने की जो भी फीस होगी वे बूथ मालिक से ली जाए। इसके साथ साथ जब बूथ की रजिस्ट्ररी हो वे सिंगल फ्लोर की न होकर डबल फ्लोर की हो।

मोहाली प्रापर्टी कंसल्टेंट एसोसिएशन के पूर्व चेयरमैन शैलेंद्र आनंद ने कहा कि शॉप और बूथों पर फर्स्ट फ्लोर बनाने को लेकर 2007 से नीड बेस्ड पॉलिसी के तहत मांग की जा रही थी। मार्केट्स में बूथों का स्पेस कम है। हर चुनाव से पहले इस तरह की घोषणाएं होती रही हैं, लेकिन बाद में व्यापारियों की तरफ कोई देखता नहीं। मुख्यमंत्री ने जो घोषणा की है वे जल्द से जल्द पूरी होनी चाहिए।

बूथ मालिक संजीव, हरजिंदर सिंह ने कहा कि गमाडा की ओर से बूथों को लेकर जो पॉलिसी बनाई जानी है उसके लिए पहले बूथ मालिकों से राय ली जाए। इसके बाद ही एक अच्छी पॉलिसी तैयार हो सकती है। बूथ मालिकों ने कहा कि अगर फर्स्ट फ्लोर बनाने की इजाजत मिल जाती है तो इससे व्यापार बढ़ेगा। रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। फर्स्ट फ्लोर बनाने के लिए कितनी फीस ली जानी है ये सब निर्धारित किया जाना चाहिए। मोहाली से विधायक व पूर्व सेहत मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि बूथ मालिकों के लिए जो घोषणा की गई हैं उसे जल्द पूरा कर दिया जाएगा। पॉलिसी बनाने का काम शुरू कर दिया है।

Edited By: Ankesh Thakur