विकास शर्मा, चंडीगढ़

विजय हजारे ट्राफी में शानदार प्रदर्शन की बदौलत चंडीगढ़ की टीम का विजयरथ जारी है। पहली बार एलीट ग्रुप में खेल रही टीम तीन मैच जीत कर अजेय बनी हुई है। पिछली बार चंडीगढ़ की टीम ने पहली बार विजय हजारे ट्राफी खेली थी और प्लेट ग्रुप में सबसे ज्यादा अंक हासिल किए थे। बेहतरीन प्रदर्शन के मद्देनजर बीसीसीआइ ने चंडीगढ़ को प्लेट ग्रुप से एलीट ग्रुप में जगह दी थी। एलीट ग्रुप में गुजरात, हैदराबाद, त्रिपुरा, बड़ौदा और गोवा जैसी टीमें शामिल थी। बावजूद इसके अस्तित्व में आने के दो साल में ही चंडीगढ़ की टीम ने शानदार प्रदर्शन से सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है। अंकित कौशिक बने पहले मैच में हीरो

टीम ने टूर्नामेंट में पहला मैच हरियाणा के खिलाफ खेला। इस मैच में हरियाणा ने चंडीगढ़ को 300 रनों का टारगेट दिया था। हरियाणा के खिलाफ चंडीगढ़ की ओर से जगजीत सिंह संधू ने तीन विकेट चटकाए, जबकि गुरिदर सिंह ने दो विकेट लिए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी चंडीगढ़ की शुरुआत अच्छी नहीं रही, लेकिन टीम ने हार नहीं मानी और मनन वोहरा ने 117 रनों की शतकीय पारी खेली। बावजूद इसके मैच के हीरो अंकित कौशिक रहे। दरअसल मैच के अंतिम ओवर में 10 रन चाहिए थे, तभी अंकित (78) ने तीन छक्के जड़े और चंडीगढ़ ने तीन गेंद शेष रहते मैच जीत लिया। चंडीगढ़ ने यह मैच तीन विकेट से जीता। फिर चला अर्सलन खान का बल्ला

दूसरे मैच में चंडीगढ़ ने मेजबान बंगाल को पांच विकेट से हराया। बंगाल ने टीम को 245 रनों का लक्ष्य दिया था। इस मैच में टीम की तरफ से गौरव गंभीर, बिपुल शर्मा और गुरिन्द्र सिंह ने दो-दो विकेट चटकाए, जबकि जगजीत सिंह संधू को एक विकेट से संतोष करना पड़ा। वहीं इस मैच में 19 साल के युवा बल्लेबाज अर्सलन खान ने शानदार 88 रनों की पारी खेली। वहीं शिवम भांबरी ने नाबाद 71 रनों की पारी खेलकर सात गेंदे शेष रहते मैच चंडीगढ़ के नाम कर दिया। पिछले रणजी सीजन में डेब्यू मैच में अर्सलन खान ने नाबाद 233 रन की पारी खेलकर सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। अरुणाचल प्रदेश के खिलाफ डेब्यू मैच में अर्सलन खान अगर 34 रन और बना देते, तो यह फ‌र्स्ट क्लास क्रिकेट में किसी डेब्यू करने वाले खिलाड़ी का सबसे बड़ा स्कोर बनाने का व‌र्ल्ड रिकार्ड उनके नाम होता। ऑलराउंडर बनकर उभरे गौरव गंभीर

प्रतियोगिता के तीसरे मैच में टीम ने सर्विसेस को रोमांचक मुकाबले में पांच रन से हराया। इस टूर्नामेंट में चंडीगढ़ ने 225 रनों का लक्ष्य दिया था। इसका पीछा करते हुए सर्विसेस की टीम 219 पर ढेर हो गई। इस मैच में गौरव गंभीर ने नाबाद 44 रन और चार विकेट झटके। इससे पहले उन्होंने हरियाणा और बंगाल के खिलाफ भी शानदार गेंदबाजी की थी। गौरव पंजाब के खिलाड़ी हैं, लेकिन उन्हें पंजाब की ओर से खेलने का मौका नहीं। इस पर वह चंडीगढ़ टीम के साथ जुडे़।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप